देशभर में शांति से मनी बकरीद मोदी और अमित शाह का फैसला हुआ सर्वमान्य, सत्यपाल मलिक व जम्मू-कश्मीर और लद्दाख की जनता को बधाई

17
loading...

ईद उल अजहा का पवित्र त्यौहार जम्मू-कश्मीर और लद्दाख सहित पूरे देश में शांति और सौहार्द के साथ मनाया गया। उक्त लाइन लिखे जाने तक कहीं से भी कोई खबर अनहोनी घटना की नहीं थी। देशभर में शांति के साथ नमाज अता की गई तो जम्मू-कश्मीर में सीआरपीएफ के जवानों और नागरिकों में अनोखा तालमेल और अपनापन नजर आया। सुरक्षा बलों के जवान वहां के निवासियों को अपने हाथ से मिठाई खिला रहे थे और बांट रहे थे।
यहां के पुलिस महानिदेशक दिलबाग सिंह द्वारा कहे गए शब्द कि फैसले के बाद कहीं भी गोली नहीं चल रही तो केंद्रीय सूचना प्रसारण मंत्री श्री प्रकाश जावडेकर का दावा कि जम्मू-कश्मीर में पिछले छह दिनों में आंसू गैस का गोला नहीं फटा इस बात का प्रतीक कहा जा सकता है कि जनता ने प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह आदि सहित केंद्र सरकार के द्वारा अनुच्छेद 370 और 35ए को हटाने तथा जम्मू-कश्मीर और लद्दाख को केंद्र शाषित प्रदेश का दर्जा देने की घोषणा को आत्मसात कर लिया है। और कुछ निजी स्वार्थों से ग्रस्त या राजनीतिक विचारधारा वाले विरोधियों को छोड़ दें तो सारा देश इस घोषणा से सहमत नजर आ रहा है।
महामहिम उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू का कथन कि अनुच्छेद 370 समाप्त करना वक्त की मांग है तो अमित शाह साहब का यह कथन कि 370 हटने से आतंकवाद मिटेगा अगर निष्पक्ष भाव से सोचें तो कहीं न कहीं सही प्रतीत हो रहा है।
रही बात शांति व अमन पसंद लोगों की तो उन्हें पूर्ण सुरक्षा देने और निर्भीक वातावरण का अहसास कराने के लिए प्रदेश के राज्यपाल श्री सत्यपाल मलिक हर संभव प्रयास कर रहे हैं। वहीं राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल निरंतर स्थिति पर नजर रखने के साथ ही जम्मू-कश्मीर और लद्दाख की जनता से किसी न किसी रूप से जुड़े हुए हैं। जैसा कि खबरें उक्त लाइन लिखे जाने तक सुनने को मिल रही है उसके अनुसार इस बार पहले के मुकाबले शायद राज्य में शांति ज्यादा महसूस की जा रही है। ईद के अवसर पर राशन की कमी तो होने ही नहीं दी जा रही। बकरीद को ध्यान में रखते हुए करीब ढाई लाख भेड़ बकरियां और 30 लाख मुर्गों का बंदोबस्त तथा जरूरत का सामान देने के अतिरिक्त गत रविवार को छुट्टी के बावजूद बैंक व एटीएम खुलवाये गए। बाजारों में रौनक नजर आई। बेकरी, पोलटी, मटन और मिष्ठान की दुकानें विशेष तौर पर खुलवाई गईं। जो इस बात का प्रतीक है कि अगर सुरक्षाबल और वहां का प्रशासन और सरकार चाक चैबंद रहीं तो जम्मू और लदद्ाख के नागरिकों द्वारा बीती सात अगस्त को हटाई गई धारा 370 और 35ए से संबंध प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह की राष्ट्रहित की भावना का भरपूर आदर और सम्मान किया गया है।
जम्मू-कश्मीर व लद्दाख समेत देशभर में उक्त शब्द लिखे जाने तक किसी बड़ी घटना के न होने और नागरिकों द्वारा एक-दूसरे से गले मिल उन्हें बधाई देने तथा मिठाई देने और देशभर की ईदगाह पर जुटी भारी भीड़ को देखकर नागरिकों में त्यौहार के प्रति उत्साह और भाईचारे के प्रति सम्मान और अपनापन जो नजर आया उसके लिए प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह रक्षामंत्री राजनाथ सिंह, राज्यपाल सत्यपाल मलिक, यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सहित देशभर के शांति और व्यवस्था बनाए रखने के काम में लगे अफसर और जनप्रतिनिधियों को हार्दिक बधाई तो दी ही जानी चाहिए। मेरा मानना है कि जो राजनीतिक दल वैचारिक विरोध के चलते धारा 370 और 35ए हटाने का विरोध कर रहे हैं उन्हें देशहित में अपना विरोध बंद कर मोदी और अमित शाह, राजनाथ और सत्यपाल मलिक को बधाई और धन्यवाद इस अच्छे निर्णय के लिए दे ही देना चाहिए।

इसे भी पढ़िए :  पाकिस्तान के बाद मीका सिंह का एक और VIDEO VIRAL, मांग रहे हैं मदद

– रवि कुमार बिश्नोई
संस्थापक – ऑल इंडिया न्यूज पेपर्स एसोसिएशन आईना
राष्ट्रीय स्तर पर सक्रिय समाज सेवी संगठन आरकेबी फांउडेशन
सम्पादक दैनिक केसर खुशबू टाईम्स
आनलाईन न्यूज चैनल ताजाखबर.काॅम, मेरठरिपोर्ट.काॅम

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

eight − one =