janmashtami 2019: इस तारीख को है जन्माष्टमी, यह है पूजा का मुहूर्त

12
loading...

हिंदू पंचांग के अनुसार कृष्ण जन्माष्टमी या भगवान श्रीकृष्ण की जयंती भद्रपद माह के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि (आठवें दिन) को मनाई जाती है। भगवान श्रीकृष्ण को भगवान विष्णु का एक अवतार माना जाता है। अष्ठमी की रात 12 बजे भगवान का श्रीकृष्ण का संकेतिक रूप से जन्म होने पर व्रत का परायण किया जाता है। बहुत से लोग मथुरा जाकर भगवान श्रकृष्ण की जन्मभूमि का दर्शन करते हैं। यह हिन्दुओं के प्रमुख त्योहारों में से एक है। कहा जाता है कि इस दिन सृष्टि के पालनहार श्री हरि विष्‍णु ने श्रीकृष्‍ण के रूप में आठवां अवतार लिया था। ऐसा बी कहा जाता है कि कृष्ण जन्माष्टमी व्रत के समय किए गए अनुष्ठान एकादशी व्रत के दौरान किए गए अनुष्ठानों के समान हैं।

इसे भी पढ़िए :  भगवान विश्वकर्मा की पूजा में समय का रखा जाता है खास ध्यान

ये है मुहूर्त

अष्टमी तिथि- 24 अगस्त की रात्रि 12:01 से 12:46 तक

ऐसे रखें व्रत

जन्‍माष्‍टमी के दिन सुबह स्‍नान करने के बाद भक्‍त व्रत का संकल्‍प लेते हुए अगले दिन रोहिणी नक्षत्र और अष्‍टमी तिथि के खत्‍म होने के बाद पारण यानी कि व्रत खोल सकते हैं। कृष्‍ण की पूजा आधी रात को की जाती है।

इसे भी पढ़िए :  भगवान विश्वकर्मा की पूजा में समय का रखा जाता है खास ध्यान

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

five + seventeen =