वंदे मातरम को मिले राष्ट्रगान का दर्जा, इसके लिए दिल्ली हाईकोर्ट में जनहित याचिका दायर

9
loading...

नई दिल्‍ली : राष्ट्रगीत (वंदे मातरम) को राष्ट्रगान (जन गण मण) के समान दर्जा देने की मांग को लेकर Delhi Highcourt में जनहित याचिका दायर की गई है. याचिका में वंदे मातरम को राष्ट्रगान का दर्जा देने की मांग की गई है. याचिका पर Delhi Highcourt में मंगलवार को सुनवाई हो सकती है. दरअसल, ये याचिका BJP प्रवक्ता अश्विनी उपाध्याय ने दायर की है. याचिका में कहा गया है कि वंदे मातरम को समान दर्जा आज तक नहीं मिला. ऐसे में Court को इस मामले दखल देना चाहिए. याचिका में उपाध्याय ने मांग की है कि सभी स्कूलों में वंद मातरम को राष्ट्रगान के तौर पर बजाया जाना चाहिए. साथ ही इसको लेकर National policy बनाने की मांग की गई है.

इसे भी पढ़िए :  मेडिकल प्रवेश घोटाले में लखनऊ और मेरठ में सुधीर गिरी के निवास पर सीबीआई के छापे

इससे पहले साल 2017 में सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि संविधान के अनुच्छेद 51ए यानी मौलिक कर्तव्य के तहत सिर्फ राष्ट्रगान और राष्ट्रीय ध्वज का उल्लेख है, इसलिए राष्ट्रगीत (वंदे मातरम्) को अनिवार्य नहीं किया जा सकता है. कोर्ट ने यह टिप्पणी अश्विनी उपाध्याय की याचिका पर सुनवाई के दौरान की थी. इसके साथ ही उनकी इस याचिका को भी खारिज कर दिया था. याचिका में उपाध्याय ने मांग की थी कि सभी स्कूलों में राष्ट्रगान बजाया जाना चाहिए. उसके साथ ही उन्होंने राष्ट्रगान, राष्ट्र ध्वज और राष्ट्र गीत को प्रमोट करने के लिए नेशनल पॉलिसी बनाने की मांग की गई थी.

इसे भी पढ़िए :  झारखंड चुनाव: सिसई में बूथ पर पुलिस फायरिंग में 1 की मौत

सरकारी दफ्तरों, कोर्ट, विधान परिषद और संसद में राष्ट्रगान अनिवार्य होना चाहिए. इस मांग को भी Supreme Court ने खारिज कर दिया था. कोर्ट ने कहा था कि जहां तक राष्ट्रगान से संबंद्ध है, हम इस बहस में नहीं पडना चाहते, हालांकि, कोर्ट ने स्कूलों में राष्ट्रगान को अनिवार्य करने संबंधी मांग पर सुनवाई करने के लिए तैयार होने की बात कही थी.

इसे भी पढ़िए :  जिम्मेदार अधिकारी दें ध्यान : पराली और कोल्हू से कम जनरेटरों और कूड़ा जलाने तथा वाहनों से निकलने वाले जहरीले धुएं से ज्यादा हो रहा है प्रदूषण

Supreme Court ने ‘वंदे मातरम’ गीत को स्कूली सिलेबस का हिस्सा बनाने पर केंद्र सरकार की राय भी मांगी थी. उस वक्त अश्विनी उपाध्याय ने याचिका में कहा था कि भारत राज्यों का संघ है और ना कि राज्यों का संगठन. यहां एक राष्ट्रीयता, एक राष्ट्रगान, एक राष्ट्रगीत और एक राष्ट्रीय झंडा है. इन सभी का सम्मान करना हर भारतीय का कर्तव्य है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

19 − 13 =