एनबीएफसी सेक्टर पर तत्काल ध्यान देने की जरूरत : रिपोर्ट

21
loading...

नई दिल्ली : आईएलएंडएफएस द्वारा कई सारे Default किए जाने के बाद नकदी संकट से जूझ रहे गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनी (NBFC) सेक्टर पर तत्काल ध्यान देने की जरूरत है. यह बात भारतीय स्टेट बैंक की एक रिपोर्ट में कही गई है. रिपोर्ट में कहा गया है, ‘मार्च 2020 तक एनबीएफसी सेक्टर के 47.5 खरब बांड और कागजात परिपक्व होने वाले हैं. इसके बाद NBFC का अधिकांश निवेश रियल्टी क्षेत्र में है.’

रिपोर्ट में कहा गया है, ‘NBFC क्षेत्र में कुछ खामियों के संबंध में एक मजबूत संदेश भेजने की जरूरत है. यह अधिक आवश्यक है, क्योंकि यदि NBFC Sector की स्थिति में सुधार नहीं होता है तो बैंकों को आगे जाकर NPA प्रावधानों के नए दौर का सामना करना पड़ेगा.’ report में जोर देकर कहा गया है कि NBFC क्षेत्र के मुद्दों पर ध्यान देना और MSME को विकास का इंजन बनाने पर बजट में ध्यान देना चाहिए.

चिंता के एक अन्य बिंदु को रेखांकित करते हुए रपट में कहा गया है कि आवधिक कर्ज से कृषि क्षेत्र को बल मिलेगा. रपट में कहा गया है कि इसके अलावा, जीएसटी काउंसिल की तर्ज पर एग्री-मार्केटिंग रिफॉर्म्स काउंसिल (एएमआरसी) की स्थापना और तेजी से सिकुड़ते जल संसाधनों के दोहन पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

three × two =