लोकसभा के स्‍पीकर बन सकते हैं ओम बिरला, राजस्‍थान के कोटा से तीसरी बार चुने गए सांसद

25
loading...

नई दिल्‍ली: राजस्‍थान से चुन कर आए बीजेपी सांसद ओम बिरला लोकसभा के नए अध्यक्ष होंगे. सूत्रों के मुताबिक PM मोदी और BJP अध्यक्ष अमित शाह ने उनका नाम सोमवार को ही तय कर लिया था. कोटा-बूंदी से सांसद ओम बिड़ला, तीन बार विधायक और तीसरी बार सांसद चुने गए हैं. उल्‍लेखनीय है कि मंगलवार को सांसदों का शपथ-ग्रहण होने के बाद लोकसभा स्‍पीकर का चुनाव होना है.

17वीं लोकसभा का प्रथम सत्र शुरू
इस बीच सत्रहवीं लोकसभा का प्रथम सत्र सोमवार को उत्साह के माहौल के बीच शुरू हुआ तथा सत्ता पक्ष के सदस्यों ने बीच-बीच में ‘भारत माता की जय’ और ‘जय श्रीराम’ के नारे लगाये. पहले दिन प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, गृह मंत्री अमित शाह समेत कई केंद्रीय मंत्रियों तथा कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी सहित 21 राज्यों के 200 से अधिक नवनिर्वाचित सदस्यों ने निचले सदन की सदस्यता की शपथ ली.

इसे भी पढ़िए :  शीतकालीन सत्र के लिए केंद्र सरकार का टारगेट, कई अहम बिलों को कराना है पास

बैठक शुरू होने से पहले प्रधानमंत्री ने विपक्ष को साधने का प्रयास करते हुए कहा कि उन्हें अपनी संख्या को लेकर परेशान होने की जरूरत नहीं है और उनका हर शब्द सरकार के लिए ‘मूल्यवान’ है. मोदी ने संसद परिसर में संवाददाताओं से बातचीत में सभी सांसदों से सदन में निष्पक्ष होने और देश के व्यापक हित से जुड़े विषयों पर ध्यान देने का आग्रह किया.

निचले सदन की बैठक राष्ट्रगान की धुन बजाई जाने के साथ शुरू हुई. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सदन के नेता होने के नाते सबसे पहले शपथ ली. उन्होंने हिंदी में शपथ ली. शपथ लेने के लिए लोकसभा महासचिव ने जैसे ही प्रधानमंत्री मोदी का नाम पुकारा, सदस्यों ने मेजें थपथपाकर उनका स्वागत किया. भाजपा के सदस्यों ने ‘‘मोदी..मोदी’’ और ‘भारत माता की जय’ के नारे भी लगाये.

इसे भी पढ़िए :  प्रगति मैदान में 39वां इंडिया इंटरनेशनल ट्रेडफेयर शुरू, मंगलवार से पब्लिक को मिलेगी ENTRY

प्रधानमंत्री मोदी के बाद पीठासीन अध्यक्षों के पैनल में शामिल कांग्रेस के के. सुरेश, बीजद के बी महताब और भाजपा के ब्रजभूषण शरण सिंह ने शपथ ली. सुरेश और सिंह ने हिंदी तथा महताब ने उड़िया में शपथ ली. इन तीनों सदस्यों के बाद रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, गृह मंत्री अमित शाह, सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी, रसायन एवं उर्वरक मंत्री डीवी सदानंद गौड़ा, मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक, स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन और महिला एवं बाल विकास मंत्री स्मृति ईरानी सहित मंत्रिपरिषद के अन्य सदस्यों ने भी शपथ ली.

प्रधानमंत्री और अधिकतर मंत्रियों ने हिंदी में शपथ ली, वहीं हर्षवर्धन, श्रीपद नाइक, अश्वनी कुमारी चौबे और प्रताप सारंगी ने संस्कृत भाषा में शपथ ली. डी वी सदानंद गौड़ा और प्रहलाद जोशी ने कन्नड में शपथ ली, वहीं हरसिमरत कौर बादल ने पंजाबी में शपथ ली. केंद्रीय मंत्री अरविंद सावंत, रावसाहब दानवे पाटिल ने मराठी में शपथ ली, वहीं जितेंद्र सिंह ने डोगरी, बाबुल सुप्रियो ने अंग्रेजी, रामेश्वर तेली ने असमिया और देबश्री चौधरी ने बांग्ला में शपथ ली.

इसे भी पढ़िए :  अयोध्या फैसला: पुनर्विचार याचिका दाखिल हुई तो सुप्रीम कोर्ट की बेंच में शामिल होगा एक नया जज

सुबह बैठक शुरू होने के समय संप्रग अध्यक्ष सोनिया गांधी, तृणमूल कांग्रेस के नेता सुदीप बंदोपाध्याय, समाजवादी पार्टी के मुलायम सिंह यादव और उनके बेटे अखिलेश यादव, नेशनल कान्फ्रेंस के फारूक अब्दुल्ला और द्रमुक नेता कनिमोई तथा ए राजा उपस्थित थे. सदन की कार्यवाही शुरू होने पर सदस्यों ने परंपरा के अनुसार 17वीं लोकसभा की पहली बैठक के ‘‘पुनीत अवसर’’ पर कुछ मिनट का मौन रखा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

four × 1 =