बिहार: दिमागी बुखार का बरपा कहर, एक हफ्ते में हुई 36 बच्चों की मौत

17
loading...

बिहार: उत्तर बिहार इलाके में हर साल गर्मियों में चमकी यानी दिमागी बुखार (एईएस) की बीमारी बच्चों पर काल बनकर टूटती है. Muzaffarpur district में यह बीमारी खतरनाक रूप धारण कर चुकी है. एक हफ्ते के भीतर चमकी बुखार से 36 बच्चों की मौत स्वास्थ्य विभाग में हड़कंप मच गया है. Muzaffarpur district में पिछले 24 घंटों में चमकी बुखार से छह बच्चों की मौत हुई है. उत्तर बिहार में मुजफ्फरपुर व आसपास के जिलों में चमकी व तेज बुखार जैसी घातक बीमारी बच्चों पर कहर बरपा रही है.

इसे भी पढ़िए :  बिहार में दिमागी बुखार का कहर, नौ और बच्चों की मौत के बाद 63 पहुंचा आंकड़ा

अब यह जानलेवा बीमारी महामारी का रूप लेती जा रही है. रविवार को सुबह से शाम तक महज 12 घंटे में SKMCH व केजरीवाल अस्पताल में 23 गंभीर बच्चों को भर्ती किया गया. इन नये मरीजों में तीन बच्चों की मौत हो गई, वहीं दो अन्य बच्चों को मृत अवस्था में ही अस्पताल लाया गया. एक हफ्ते के भीतर चमकी बुखार के 75 से अधिक मरीज सामने आ चुके हैं, जबकि 50 मरीजों का SKMCH व केजरीवाल में इलाज चल रहा है.

इसे भी पढ़िए :  कोलकाता मेयर और TMC नेता की डॉक्‍टर बेटी भी हुई हड़ताल में शामिल, कहा- नेताओं की चुप्‍पी पर मैं शर्मिंदा हूं

स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों में सिर्फ दस मौत

हालांकि स्वास्थ्य विभाग के अनुसार इन बीमारों में 34 में Hypoglycemia की पुष्टि हुई है. दो जून से सात जून तक दस की मौत की बात विभाग ने कही है. सीएस डॉ.एसपी सिंह व SKMCH के अधीक्षक डॉ. एसके शाही ने बताया कि आरएमआरआई पटना से जो कन्फर्म रिपोर्ट आयी है, उसके आधार पर यह डाटा है.

PICU FULL

SKMCH का दोनों PICU फुल हो गया है. तीसरे PICU को खोलने की कवायद शुरू हो गयी है. डॉक्टरों को इन गंभीर मरीजों को लाइन में लगाकर एसकेएमसीएच के PICU में भर्ती करना पड़ रहा है. एसकेएमसीएच के विभागाध्यक्ष डॉ. गोपालशंकर सहनी स्वयं पीआईसीयू में इलाज कार्यों में जुटे है.

इसे भी पढ़िए :  पश्चिम बंगाल में नहीं थम रही राजनीतिक हिंसा, बम हमले में 3 TMC कार्यकर्ताओं की मौत

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

fifteen + 9 =