ओम प्रकाश राजभर का टैंपो चालक से राज्य में मंत्री तक का सफर

34
loading...

लखनऊ. सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के अध्यक्ष ओम प्रकाश राजभर ऐसे नेता हैं जिन्होंने टैंपो चालक से उत्तर प्रदेश सरकार में मंत्री तक का सफर तय किया। पूर्वांचल में राजभर बिरादरी के नेता के रूप में पहचान बनाई। राजभरों को जोड़ने के बाद अति पिछड़ी अन्य जातियों को गोलबंद करने का काम लगातार करते आ रहे हैं। .
ओम प्रकाश राजभर वाराणसी जिले के फत्तेपुर खौंदा सिंधौरा के मूल निवासी हैं। इनके पिता सन्नू राजभर कोयला खदान में काम करते थे। ओमप्रकाश राजनीति शास्त्र से एमए हैं। अध्ययन के दौरान वाराणसी में टैंपो चलाते थे बाद में एक जीप खरीदी। गांव में सब्जी की खेती भी करते थे। .
कांशीराम के समय में ओम प्रकाश बसपा में जुड़े थे। 1995 में इन्होंने पहली राजनीतिक सफलता पत्नी राजमति राजभर को वाराणसी जिला पंचायत में सदस्य बनाकर हासिल की थी। 1996 में बसपा से ही कोलअसला (अप पिंडरा) विधानसभा से प्रत्याशी थे, चुनाव हार गए थे। बसपा छोड़ने के बाद वे सोनेलाल पटेल से जुड़े।

इसे भी पढ़िए :  पुलवामा के पीछे से ‘आतंकी हमला’ हटा कर देखें यहां की करिश्माई खूबसूरती

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

sixteen + 10 =