बाबा रामदेव जी क्यो ना मिले तीन बच्चे वालो को अधिकार, चार बच्चे वाले परिवार हो सम्मानित

10
loading...

योगगुरू बाबा राम देव द्वारा केन्द्र में श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में बनने वाली भाजपा की नई सरकार से उपेक्षा की गयी है की तीसरे बच्चे को ना मिले वोट डालने व अन्य नागरिक अधिकार ऐसी मांग कुछ संगठनों संस्थाओं व एनजीओं सहित उन लोगो द्वारा ज्यादातर की जाती है जो सोचते है की आबादी बढ़ने से कई समस्याएं खड़ी हो सकती है। अगर ध्यान से सोचे तो यह बात सही भी है मगर दूसरे दृष्टिकोण से देखे तो हर मामले में फायदा और नुकसान नही देखा जाता कुछ विषयों पर विभिन्न दृष्टिकोण से राष्ट्रहित देखा जाना जरूरी है।
एक या दो बच्चे होते है घर में अच्छे का नारा देने वाले भी देशहित में ही सोचते है लेकिन उनकी सोच मेरी नजर में भावनात्मक होती है वर्तमान परिस्थितियों और भविष्य की सम्भावनाओ का ध्यान शायद इनके द्वारा उतना नही रखा जाता जितना रखा जाना चाहिए।
मै बाबा रामदेव अथवा ऐसी मांग करने वाले अन्य लोगो का विरोध तो नही कर रहा हंु मगर जितना आये दिन समाचार और खबरों को पढ़ने से पता चलता है। उससे मुझे लगता है की एक दो बच्चो का नारा अब इतना साकारात्मक नही है जितना एक समय में इसकी आवश्यकता थी। योगगुरू कह रहे है की तीसरे बच्चे वाले को कुछ अधिकार नही मिलने चाहिए।
मगर मेरा माननाहै की कुछ बिंदुओं को ध्यान में रखते हुए राष्ट्रहित में तीन चार पांच बच्चे वालो को सार्वजनिक रूप से सम्मानित किया जाना चाहिए क्योकि जिस हिसाब से हमारे देश में अन्य कुछ देशों की भांति बुजुर्गाे की संख्या बढ़ रही है उसकों ध्यान में रखते हुए अगर बच्चे नही होगे तो नौजवानो की संख्या एक समय में आकर कम हो जायेगी और वो स्थिति देश समाज और परिवारों के हित में बिल्कुल नही होगी।
दूसरी ओर बराबर के देश में जहां पहले एक बच्चे से ज्यादा की अनुमति नही थी पिछले कुछ वर्षो में परिवार में दो बच्चे करने की अनुमति शायद मिलने के समाचार सुनने को मिलते रहे है और अब तो अभी एक खबर सुनायी दी थी की बराबर के देश में तीन बच्चे पैदा करने की नीति बनाई जा सकती है। योग गुरू बाबा रामदेव जी ऐसी परिस्थितियों में आप और एक दो बच्चों की बात करने वाले अन्य लोगो को अब सोचना और तय करना होगा की राष्ट्रहित में एक दो बच्चे हो या परिवार में 4-5 मेरी निगाह में तो यह पक्का है की भविष्य को ध्यान में रखते हुए हर परिवार में 4 बच्चे जरूर होनी चाहिए। वरना एक दिन ऐसा आयेगा की देश मे बूढ़े ही नजर आयेगे ओर पडोसी देश मे जवानों की फौज दिखायी देगी चारों और।

इसे भी पढ़िए :  दीपिका पादुकोण ने पति रणवीर सिंह को कहा-डैडी, क्या प्रेग्नेंसी की तरफ है इशारा?

– रवि कुमार बिश्नोई
संस्थापक – ऑल इंडिया न्यूज पेपर्स एसोसिएशन आईना
राष्ट्रीय स्तर पर सक्रिय समाज सेवी संगठन आरकेबी फांउडेशन के संस्थापक
सम्पादक दैनिक केसर खुशबू टाईम्स
आनलाईन न्यूज चैनल ताजाखबर.काॅम, मेरठरिपोर्ट.काॅम

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

2 + 2 =