नेता जी आप कहां है, बिजली विभाग से परेशान है जनता

10
loading...

एमडी साहब जनता क्यों लगाये आपके कार्यालय के चक्कर, विभाग से संबंध समस्याओं का समाधान तो आपको करना चाहिए

काम कम प्रचार ज्यादा करने के मामले में वर्तमान समय में प्रदेश में प्रथम चल रहे सरकारी विभागों में से एक पावर कारर्पोरेशन के पश्चिमांचल के महानिदेशक कार्यालय के अफसर अपनी जिम्मेदारियों का निर्वाह करने तथा नियमित विद्युत आपूर्ति नागरिकों को उपलब्ध कराने में पूरी तौर पर असफल तथा बिना घोषित किये ही घंटों बिजली की आपूर्ति बंद करने के लिए चर्चित इस विभाग के कुछ अफसरों द्वारा अब ग्राहकों को परेशान और उनका आर्थिक उत्पीड़न करने के लिए नए-नए तरीके निकाले गये हैं। हाल यह है कि घंटों बिजली कटौती से परेशान उपभोक्ता की चैकिंग के नाम पर उत्पीड़न तथा पुराने कनेक्शनों पर बढ़ाई गयी सिक्योरिटी से त्रस्त नागरिकों की सुनने को कोई तैयार नहीं लगता है परिणाम स्वरूप उपभोक्ता अधिकारियों के रवैये से हैं परेशान। कस्टुमर केयर नंबर एक प्रकार से शो पीस बन गया है इसलिए शिकायत करने और अफसरों से मिलने के लिए भी दफ्तर जाना अनिवार्य सा हो गया है। उपभोक्ताओं का आरोप है कि 20-20 साल पुराने कनेक्शनों पर सिक्योरिटी बढ़ाकर घरेलू पर 400 और व्यावसायिक पर 3000 रूपये किलो वाट से वसूली की जा रही है। बताते हैं कि इस संदर्भ में जब पीवीएनएल के एमडी से उपभोक्ताओं ने शिकायत की तो उनका कहना था कि अलग से कोई सिक्योरिटी मनी लेने के लिए निर्देश नहीं दिये गये हैं। जिनके बिलों में मिश्लेनियस चार्ज जुड़ कर आया है उनका कोई पुराना बकाया होगा जिसमें पोर्टली पेमेंट जमा हुआ हो। इसके लिए संबंधित अधिशासी अभियंता से मिलकर समस्या का समाधान किया जा सकता है।
सवाल यह उठता है कि उपभोक्ता बिना मतलब की समस्या के लिए परेशान होता क्यों फिरे एमडी साहब इस संदर्भ में खुद संज्ञान लेकर इस समस्या का समाधान करने हेतु स्थिति स्पष्ट क्यों नहीं कर रहे हैं यह विषय सोचनीय है। बताते चले कि प्रधानमंत्री सौभाग्य बिजली हर घर योजना के लिए लकड़ी की बल्लियों पर बांट दिये गये हैं कनेक्शन इनसे जो समस्याएं उत्पन्न होंगी वह उपभोक्ताओं को भुगतनी पड़ेंगी। मगर प्रदेश में प्रथम आने और प्रशंसा प्राप्त करने तथा क्षेत्र को बिजली से रोशन करने के दावों के तहत कनेक्शन अस्थिाई बांटे जा रहे हंैं बल्लियों पर।
सवाल यह उठता है कि आये दिन उपभोक्ताओं से समक्ष इस विभाग द्वारा खड़ी की जाने वाली परेशानियों के समाधान के लिए जनप्रतिनिधि सामने क्यों नहीं आ रहे हैं आखिर जनता की कठिनाईयों से मुंह चुराने के पीछे इनकी कौन सी मजबूरी है। आश्चर्य तो इस बात का है कि क्षेत्र में भाजपा, कांगे्रस, सपा-बसपा और रालोद सहित आप पार्टी के नेताओं की कोई कमी नहीं है। उसके बावजूद नागरिकों के समक्ष इतनी बड़ी परेशानी और आर्थिक समस्या जो मौखिक सूत्रों के अनुसार बिजली विभाग ने पैदा की है उससे अफसरों को अवगत कराकर उसका समाधान करने के लिए सांसद, विधायक तथा अन्य पदों पर तैनात जनप्रतिनिधि और राजनीतिक पार्टियों के पदाधिकारी व नेताजी सामने आकर काम करने को तैयार क्यों नहीं है।
बताते चलें कि पश्चिमांचल विद्युत वितरण निगम लिमिटेड की ओर से मेरठ, मुजफ्फरनगर, शामली, सहारनपुर, बागपत, हापुड़, बुलंदशहर, मुरादाबाद, अमरोहा, बिजनौर, रामपुर, संभल तथा गढ़मुक्तेश्वर आदि क्षेत्रों में बिजली सप्लाई करने वाला यह विभाग नागरिकों के समक्ष समस्याएं खड़ी करने के साथ साथ कभी कभी प्रशासनिक और पुलिस अधिकारियों को भी परेशानी में डालता रहा है। लोकसभा चुनाव से पूर्व अन्नदाता किसानों को परेशान करने का जो रवैया विभिन्न माध्यमों से इस विभाग द्वारा खोजा गया था उसने एक बार को तो प्रदेश सरकार के समक्ष भी अनकहे रूप से कई परेशानियां खड़ी कर दी थी जिन्हें जिलों में तैनात जिलाधिकारियों ने बड़ी समझदारी और सूझबूझ के साथ संभाला था। मेरा मानना है कि पीवीवीएनएल के एमडी साहब को थोड़ा सा नरमता पूर्वक विचार कर जो शिकायतें पुराने कनेक्शनों पर सिक्योरिटी वसूल करने और बिजली आपूत्रि से संबंध प्राप्त हो रही है उनके समाधान के लिए समय खुद ही निकालना होगा क्योंकि आम आदमी अपनी परेशानी और समस्याओं में इतना उलझा हुआ है कि वह अब इस नई बिन बुलाई परेशानी के समाधान के लिए बिजली विभाग के अफसरों के दफ्तरों में चक्कर काटने और उनकी खाली पड़ी कुर्सियों के दर्शन करने की स्थिति में नहीं हैं। क्योंकि दफ्तर में बैठने के तय समय में भी कई मौकों पर अधिकारी विभिन्न कारणों को सामने रख अपनी सीटों से गायब रहते हैं वर्तमान में जनता पर इतना समय नहीं है कि घंटों इंतजार करें। इसलिए पीवीवीएनएल से संबंध समस्याओं का समाधान एमडी साहब खुद आगे आकर समस्याओं का समाधान करायें।

इसे भी पढ़िए :  प्रधानमंत्री जी, देश भर में हो मानसिक रोगियों के मुफ्त इलाज की व्यवस्था

– रवि कुमार बिश्नोई
संस्थापक – ऑल इंडिया न्यूज पेपर्स एसोसिएशन आईना
राष्ट्रीय स्तर पर सक्रिय समाज सेवी संगठन आरकेबी फांउडेशन के संस्थापक
सम्पादक दैनिक केसर खुशबू टाईम्स
आनलाईन न्यूज चैनल ताजाखबर.काॅम, मेरठरिपोर्ट.काॅम

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

2 + two =