चांद का आंतरिक हिस्सा होता जा रहा है ठंडा, खुलासाः धीरे-धीरे सिकुड़ रहा है चांद

8
loading...

वाशिंगटन, 15 मई. चांद का आंतरिक हिस्सा ठंडा हो रहा है और चांद धीरे-धीरे सिकुड़ रहा है। पिछले कई सौ लाख सालों में चांद 50 मीटर तक सिकुड़ गया है और इसकी वजह से चांद पर भूकंप के झटके महसूस किए जा रहे हैं। एक हालिया शोध में यह दावा किया गया है।
जिस तरह पृथ्वी पर भूकंप आते हैं वैसे ही चंद्रमा पर भी भूकंप आ रहे हैं। वैज्ञानिकों के अनुसार यह चांद के सिकुड़ने के कारण हो रहा है। अभी हाल ही में नासा ने अपने सिस्मोमीटर से चांद पर भूकंप के झटके को पहली बार दर्ज करने का दावा किया था।
क्या कहते हैं वैज्ञानिक: वैज्ञानिकों के अनुसार पिछले कई सौ लाख वर्षों में चंद्रमा लगभग 150 फीट (50 मीटर) से अधिक सिकुड़ गया है। जैसे अंगूर सिकुड़ कर किशमिश बन जाता है, चंद्रमा भी ठीक ऐसे ही सिकुड़ रहा है। एक अंगूर पर लचीली त्वचा के विपरीत, चंद्रमा की सतह की पपड़ी भंगुर होती है, इसलिए यह चंद्रमा के सिकुड़ने के रूप में टूट जाता है। स्मिथसोनियन नेशनल एयर एंड स्पेस सेंटर में पृथ्वी और ग्रहों के अध्ययन केंद्र के वरिष्ठ वैज्ञानिक थाॅमस वाटर्स ने कहा, हमारे विश्लेषण से पहला सबूत मिला है।

इसे भी पढ़िए :  पूर्व प्रधानमंत्री श्री अटल बिहारी वाजपेयी जी का बहुआयामी व्यक्तित्व हमें आज भी प्रेरणा देता है: मुख्यमंत्री

चांद पर महिला और पुरुष को साथ भेजने की तैयारी में नासा
अमरीकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा वर्ष 2024 तक चंद्रमा पर एक पुरुष और एक महिला को भेजने की योजना पर काम कर रही है, जिसके लिए राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने वित्तीय वर्ष 2020 के लिए 1.6 अरब डालर की फंड को मंजूरी दे दी है। नासा के प्रशासक जिम ब्रिडेनस्टाइन ने एक वीडियो संदेश जारी कर यह जानकारी दी। ट्रंप ने चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर 2024 तक एक पुरुष और पहली महिला को भेजने की हमारी योजना को मंजूरी प्रदान कर दी है। अब राष्ट्रपति ने हमारे कार्यों पर विश्वास जताते हुए वित्तीय वर्ष 2020 के तहत इस योजना के लिए 1.6 अरब डालर की अतिरिक्त फंड को मंजूरी प्रदान कर दी है। नासा के प्रशासक ने कहा कि इस फंडिंग से अंतरिक्ष प्रक्षेपण प्रणाली और मानव चंद्र लैंडिंग प्रणाली के विकास को बल मिलेगा।
इससे चंद्रमा के ध्रुवीय क्षेत्रों का रोबोट के जरिए अन्वेषण करने जैसी क्षमताओं के विकास को भी बढ़ावा मिलेगा।

इसे भी पढ़िए :  प्राइवेट क्षेत्र में आरक्षण की मांग ठीक नहीं, कांग्रेसियों को हो क्या गया है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

eighteen − fifteen =