बद्रीनाथ यात्रा लोगों को दे रही सुकून, ब्लैक बियर और ग्लेशियर बने Center of Attraction

3
loading...

नई दिल्लीः Badrinath Yatra इस वर्ष देशी और विदेशी यात्रियों को सुकून का एहसास करा रही है, जहां इस समय देश का कोना-कोना तपती गर्मी की चपेट में है, वहीं Uttarakhand में बद्रीनाथ आए श्रद्धालुओं को यहां मौसम बढ़ती गर्मी से राहत दे रहा है, जिससे यात्रियों की यात्रा रोमांचित साबित हो रही है. बद्रीनाथ मार्ग पर इन दिनों सड़क के दूसरी तरफ पहाड़ी काला भालू दिखाई दे रहा है यह भालू अकेले ही पहाड़ी पर घूम रहा है. जिसके चलते यह यात्रियों के लिए आकर्षण का केंद्र बना हुआ है. भालू लगातार अकेले में ही कभी इधर कभी उधर दौड़ता रहता है. कभी खड़े होकर चलने लगता है, इस पहाड़ी पर या भालू ज्यादातर दोपहर के बाद हर समय दिखाई दे रहे हैं.

इसे भी पढ़िए :  पिछले तीन हफ्तों में 6वां परीक्षण, उत्तर कोरिया ने फिर दागी दो 'अज्ञात प्रोजेक्टाइल' मिसाइल

इसके साथ ही राज्य पक्षी मोनाल भी यहां इन दिनों यात्रियों के लिए रोमांचित साबित हो रहा है. यह इसलिए हो रहे हैं क्योंकि यह प्रजाति आसानी से दिखाई नहीं देती है, लेकिन बद्रीनाथ मार्ग पर इन दिनों आसानी से Black Bear और मोनाल जैसे पक्षी दिखाई दे रहे हैं. जहां सड़क के उस पार यात्रियों को जानवरों का कौतूहल देखकर मजा आ रहा है, वहीं सड़क के इस तरफ Glacier पर रुक कर यात्री घंटो Glacier के बर्फ से खेल रहे हैं. अब देश के कोने-कोने से यात्री बद्रीनाथ धाम पहुंचने लगे हैं, लेकिन इस वर्ष यात्रा के दौरान यात्रियों को जहां बड़े-बड़े हिमखंड के दर्शन हो रहे हैं और यात्री जमकर ग्लेशियरों से खेल रहे हैं.

इसे भी पढ़िए :  जब आलिया भट्ट को मिला सलमान की 'इंशाअल्लाह' का ऑफर, ऐसा था रिएक्शन

इन सबके बीच चार धाम यात्रा के साथ देश और दुनिया से आए यात्रियों के लिए बद्रीनाथ यात्रा पूरी adventure से भरी हुई दिखाई दे रही है मई के महीने में यात्रियों को ग्लेशियरों की बर्फ से खेलना बहुत भा रहा है क्योंकि इस समय उत्तर भारत मैं पारा लगातार चढ़ता जा रहा है जिस कारण यात्री यहां ग्लेशियरों से खेल रहे हैं. बता दें पहाड़ी भालू का दिमाग इंसान जैसा ही होता है और पहाड़ों में अधिकतर लोगों पर हमला भी हर साल करता रहता है. इसका खाने का तरीका भी इंसान के जैसा ही है यह बड़ी तेजी से पेड़ों पर चढ़ता है और दो पैरों पर भी चल सकता है.

हालांकि भालू सामने हो तो बहुत बड़ा खतरा भी साबित होता है पेड़ हो या पहाड़ बड़ी तेजी से चढ़ता है और सबसे ज्यादा फल खाता है. बर्फीले इलाके में जब लोग अपने घरों को छोड़ निचली जगह पर आते हैं तो यह भालू लोगों के घरों की छत फाड़ कर घरों में घुसकर आटा चावल जो भी सामान मिला उसे खाकर चौपट कर देता है. लोगों के घरों को दुकानों को बहुत ज्यादा नुकसान भी पहुंचाता है, लेकिन इस समय बद्रीनाथ राष्ट्रीय राजमार्ग की दूसरी तरफ यह भालू पर्यटकों का और यात्रियों का आकर्षण का केंद्र बना हुआ है.

इसे भी पढ़िए :  प्राइवेट क्षेत्र में आरक्षण की मांग ठीक नहीं, कांग्रेसियों को हो क्या गया है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

16 − 14 =