TikTok App को Google ने भारत में किया ब्लॉक, अब नहीं कर पाएंगे डाउनलोड, court ने दिया था आदेश

7
loading...

नई दिल्ली: google ने मद्रास हाईकोर्ट के निर्देशों का पालन करते हुए भारत में बेहद लोकप्रिय वीडियो ऐप्प टिकटॉक (TikTok) को ब्लॉक कर दिया है. इसका मतलब हुआ कि अब गूगल के Play store app से tik tok video app को डाउनलोड नहीं किया जा सकता है. टिकटॉक को लेकर यह कदम उस फैसले के बाद आया है, जिसमें हाईकोर्ट ने चीन की कंपनी Bytedance Technology के उस अनुरोध को अस्वीकार कर दिया था, जिसमें कंपनी ने कोर्ट से टिकटॉक ऐप्प पर से बैन खत्म करने को कहा था.

मद्रास हाईकोर्ट ने 3 अप्रैल को केंद्र से tik tok पर बैन लगाने को कहा था. साथ ही कोर्ट ने कहा था कि tiktok App pornography को बढ़ावा देता है और बच्चों को यौन हिंसक बना रहा है. बता दें कि tiktok पर अश्लील सामग्री परोसने का आरोप है.

tiktok app पर यह फैसला तब आया जब एक व्यक्ति ने इस पर प्रतिबंध के लिए एक जनहित याचिका दायर की. आईटी मंत्रालय के एक अधिकारी के अनुसार, केंद्र ने उच्च न्यायालय के आदेश का पालन करने के लिए Apple और Google को एक पत्र भेजा था. सरकार ने गूगल और एपल को मद्रास उच्च न्यायालय के उस आदेश का पालन करने को कहा है जिसमें लोकप्रिय मोबाइल एप टिकटॉक पर प्रतिबंध लगाया है.

इसे भी पढ़िए :  Lok Sabha Elections! गलत वोट डल जाने से परेशान युवक ने काट ली अपनी उंगली

भारत में tiktok app अभी भी ऐप्पल के प्लेटफार्मों पर मंगलवार देर रात तक उपलब्ध था, लेकिन Google के प्ले स्टोर पर उपलब्ध नहीं था. Google ने एक बयान में कहा कि यह इस ऐप्स पर टिप्पणी नहीं करता है लेकिन स्थानीय कानूनों का पालन करता है.

हालांकि, गूगल के इस कदम पर tiktok की ओर से कोई बयान नहीं आया है. टिक टॉक यूजर्स को स्पेशल इफेक्ट के साथ video बनाने और शेयर करने की अनुमति देता है. यह भारत में काफी पॉपुलर हो गया है मगर कुछ राजनेताओं ने इस ऐप्प की आलोचना की है और उनका कहना है कि इसका कंटेंट अनुचित होता है. फरवरी में एक रिपोर्ट में कहा गया कि भारत में अब तक 240 मिलियन लोगों द्वारा इस app को download किया जा चुका है.

इसे भी पढ़िए :  Tv एक्टर पार्थ समथान के पिता का निधन, इंस्टाग्राम पर लिखा Emotional post

मद्रास उच्च न्यायालय ने अपने आदेश में कहा था कि medai report से स्पष्ट है कि इस तरह के mobile app के जरिए अश्लील और अनुचित सामग्री उपलब्ध कराई गई है. अदालत ने media को tiktok से बने वीडियो का प्रसारण नहीं करने का भी निर्देश दिया था. बता दें कि टिकटॉक एप का मालिकाना हक चीन की कंपनी बाइटडांस के पास है. यह एप लोगों को छोटे video बनाने और उन्हें साझा करने की सुविधा देता है. tiktok ने मंगलवार को बयान में कहा कि उसे भारतीय न्याय व्यवस्था पर पूरा भरोसा है.

इसे भी पढ़िए :  जीतने की कोई उम्मीद नहीं इसलिए लोकतंत्र की खतरे की बात कर रही कांग्रेस पार्टी: जावेडकर

tiktok पर सुप्रीम कोर्ट ने फिलहाल highcourt के फैसले पर रोक लगाने से इनकार किया. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि फिलहाल हाई कोर्ट मामले कोर्ट सुनवाई कर रहा है और अब अगली सुनवाई 23 अप्रैल को होगी. मदुरै हाईकोर्ट के फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी गई है और याचिका में high court के आदेश पर रोक लगाने की मांग की गई है. दरसअल मद्रास हाई कोर्ट की मदुरै बेंच ने केंद्र सरकार को निर्देश दिया है कि वह video app tiktok की डाउनलोडिंग पर बैन लगाए. साथ ही कोर्ट ने मीडिया को निर्देश दिया है कि वो इसका प्रसारण ना करे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

twenty + seventeen =