धोनी ने नहीं बल्कि इस खिलाड़ी ने जिताया चेन्नई को मैच, कहीं से भी नहीं था चर्चा में

9
loading...

नई दिल्ली: राजस्थान और चेन्नई के बीच का इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) 2019 का 25वां मुकाबला चेन्नई और MS Dhoni के लिए खास था. टीम चाहती थी IPL की मजबूत टीमों में एक के खिलाफ मैच जीत कर कप्तान को जीत का तोहफा दें जो धोनी की 100वीं कप्तानी जीत होनी थी. टॉस भी चेन्नई के पक्ष में रहा. टीम के खिलाड़ी अपना पूरा जोर लगा रहे थे. पहले बॉलर्स, फिर बल्लेबाजी में अंबाती रायडू और खुद MS Dhoni ने टीम की जीत को दूर होने नहीं दिया, लेकिन अंतिम ओवर में मिचेल सेंटनर ने जिस तरह से 3 गेंदों में 10 बनाकर धोनी को जीत दिलाई, उसका कई कारणों से जिक्र नहीं हुआ.

Match में पहले तो जोस बटलर ने राजस्थान का बड़े स्कोर की उम्मीद जगाई, लेकिन बल्लेबाजी के लड़खड़ाने के बाद भी निचले क्रम के बल्लेबाजों ने टीम को सम्मानजनक 151 का स्कोर लगा कर दे दिया. इसके बाद राजस्थान के गेंदबाजों ने Power play में Chennai 24 Run पर ही 4 Wicket चटका कर राजस्थान को Match में ला दिया. इसके बाद राजस्थान को मैच में बने रहने के लिए कसी हुई गेंदबाजी करनी थी.

इसे भी पढ़िए :  मीडिया के लिए काफी खतरनाक है वर्तमान दौर, गुंडे से ही साबित हुए?

Match का रोमांच यहां नहीं रुका और धोनी ने अपने ही अंदाज में खेलते हुए मैच को आखिरी तक लेजाते हुए चेन्नई को बराबर मैच में बनाए रखा. वहीं अंबाती रायडू ने भी उनका बखूबी साथ दिया. धोनी और रायडू की 94 रनों की साझेदारी के बावजूद मैच Fifty fifty ही बना रहा. 18वें ओवर में रायडू और फिर ऐन मौके पर धोनी की आउट होने से यह तक लगने लगा कि बेन स्टोक्स की आखिरी तीन गेंदों पर जरूरी 8 रन जडेजा और सैंटनर के लिए बहुत ही मुश्किल होगा.

इसे भी पढ़िए :  आयकर विभाग ने बहुराष्ट्रीय कंपनियों पर कर लगाने के लिए नए मानदंड प्रस्तावित किए

धोनी के आउट होने के बाद बेन स्टोक्स ने अगली ही गेंद फुल टॉस डाल दी. जिसके बाद अंपायर ने अपना हाथ उठाकर रोक लिया. वहीं लेग अंपायर ने इस नो बॉल नहीं दिया. इससे धोनी नाराज होकर अंपायरों से ‘बात’ करने फील्ड पर पहुंच गए. इस गेंद पर सैंटनर ने दो रन जरूर ले लिए जिससे मैच टीम के मुमकिन बना रहा. अब दो गेंदों में टीम को जीत के लिए छह रन चाहिए थे. अगली गेंद पर फिर से सैंटनर दो ही रन ले सके.

इसे भी पढ़िए :  Retirement के बाद इन जगहों पर प्लान कर सकते हैं अपना वेकेशन...

आखिरी गेंद पर राजस्थान के खिलाड़ियों में चर्चा भी हुई लेकिन स्टोक्स की यह गेंद वाइड हो गई. अब एक गेंद पर केवल तीन रन ही जीत के लिए चाहिए थे यानि केवल चौके (या छक्के) से बात बन सकती थी क्योंकि इस मैदान पर दौड़ कर तीन रन लेना मुश्किल था. अंतिम गेंद पर इस बार सैंटनर ने कोई गलती नहीं की और सीधा स्टोक्स के ऊपर से छक्का लगा कर मैच चेन्नई की झोली में डाल दिया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

2 × three =