स्पॉट फिक्सिंग मामले में क्रिकेटर श्रीसंत को राहत, SC ने आजीवन प्रतिबंध हटाया

7
loading...

नई दिल्लीः IPL spot-fixing case में Supreme Court ने Cricketer S Sreesanth को राहत देते हुए उन पर लगाए गए आजीवन प्रतिबंध को हटा दिया है. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि श्रीसंत का यह कहना गलत है कि BCCI को उसे सजा देने का अधिकार नहीं है. सर्वोच्च न्यायालय ने कहा कि BCCI को किसी भी मामले में क्रिकेटर पर अनुशासनात्मक कार्रवाई करने का अधिकार होता है, लेकिन श्रीसंत को दी गई सजा अधिक है. Court ने कहा है कि BCCI उसकी सजा पर फिर से विचार करे और इस पर 3 महीने में निर्णय ले.

बता दें कि 2013 में IPL Spot Fixing मामला सामने आने के बाद उन पर Ban लगाया गया था. दिल्ली की निचली अदालत उन्हें बरी कर चुकी है, लेकिन Kerala High court ने निचली अदालत के फैसले को पलटते हुए BCCI के बैन निर्णय को बरकरार रखा था. दरअसल, BCCI ने श्रीसंत पर आईपीएल-2013 में Spot Fixing का दोषी पाए जाने पर अजीवन प्रतिबंध लगाया था. इसके खिलाफ श्रीसंत ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी. इससे पहले बीसीसीआई ने कोर्ट में कहा था कि श्रीसंत पर भ्रष्टाचार, सट्टेबाजी और खेल को बेइज्जत करने के आरोप हैं.

इसे भी पढ़िए :  सनी देओल और करिश्‍मा कपूर ने 1997 में खींची थी ट्रेन की चेन, कोर्ट ने तय किए आरोप

बीसीसीआई की तरफ से अदालत में दलील दे रहे वरिष्ठ वकील पराग त्रिपाठी ने कहा था कि खेल में भ्रष्टाचार और सट्टेबाजी के लिए सजा आजीवन प्रतिबंध है. त्रिपाठी ने इस मसले पर BCCI की जीरो टॉलरेंस नीति का हवाले देते हुए अदालत को बताया था कि श्रीसंत ने कभी भी बीसीसीआई की भ्रष्टाचार रोधी ईकाई के सामने इस बात का जिक्र नहीं किया था कि सट्टेबाजों ने उनसे संपर्क साधा. BCCI ने कोर्ट में कहा था कि श्रीसंत ने उन 10 लाख रुपये के स्रोत के बारे में भी जांच समिति को नहीं बताया, जिसका जिक्र टेलीफोन पर की गई बातचीत में किया गया है.

इसे भी पढ़िए :  एक्स-रे में दिखने वाला हर धब्बा टीबी ही नहीं होता - गंभीर बीमारी भी हो सकती है.

इस पर श्रीसंत की तरफ से वरिष्ठ वकील सलमान खुर्शीद ने कहा था कि यह BCCI को स्थापित करना है कि वह 10 लाख रुपये Match Fixing से संबंधित हैं. टेलीफोन पर हुई बातचीत को लेकर खुर्शीद ने कहा कि लेनदेन तब होता जब खिलाड़ी एक ओवर में 14 Run से कम देता.अपनी बात खत्म करते हुए खुर्शीद ने Court से कहा था कि युवा क्रिकेट खिलाड़ी जो अब युवा नहीं रहा, लेकिन अभी भी उसमें क्रिकेट को लेकर जुनून बाकी है, उसके करियर को बर्बाद होने से बचाया जाए. इससे पहले की सुनवाई में श्रीसंत ने कहा था कि उन्होंने दिल्ली पुलिस के दबाव में जुर्म कबूला था.

इसे भी पढ़िए :   कंपनियों को कॉरपोरेट टैक्स में मिलेगी छूट : अर्थव्यवस्था पर सरकार का बड़ा ऐलान

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

3 × one =