सत्ता और भाजपा दे ध्यान, चुनाव बाद प्रदर्शित हो फिल्म पीएम नरेन्द्र मोदी, प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री तथा मंत्रियों के फोटो लगे होर्डिग हटाये जाये

16
loading...

आचार संहिता लागु हो जाने के बाद विपक्षी दल हो या सत्ता कोई भी मौका अपने विरोधियों को विवादों में फंसाने का चुकना नही चाहते है सब एक दूसरे को इलझाने के लिए छोटी छोटी बातों को लेकर बवाल भी मचाते है और शिकायतें भी करते है और मौका लगा तो इससे आगे बढ़़ते हुए पार्टी की मान्यता रद्द करने तक की बात करने लगते है मौका पड़ने पर।
मुझे लगता है की बड़े राजनैतिक दलो के नेताओं और कार्यकर्ताओं को इस संदर्भ में विशेष चैकसी बरतनी चाहिए और कोई भी अवसर ऐसा नही छोड़ना चाहिए जिससे कही किसी प्रकार की सफाई देने में समय खराब करना पड़े और खासकर सत्ताधारी दल भाजपा के नेताओं और कार्यकर्ताओं को तो इस मामले में कोई भी मौका चूकना ही नही चाहिए।
अभी 12 अप्रैल को प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी पर राष्ट्रीय पुरूस्कार विजेता ओमंग के निदेशन में बनी फिल्म नरेन्द्र मोदी का प्रदर्शन होना है इस फिल्म में पीएम के गुजरात के मुख्यमंत्री से लेकर 2014 के लोकसभा चुनावों में भाजपा को मिली ऐतिहासिक जीत के साथ साथ अहमदाबाद के कच्छ-भुज और उतरांखड के बाद अब मुंबई में फिल्म की शूटिंग हो रही है निर्माता संदीप सिंह की इस फिल्म में विवेक ओबराय, दर्शन कुमार, बोमन ईरानी, मनोज जोशी, जरीना बहाव, बरखा, बिश्ट सेन गुप्ता आदि कलाकार शामिल है।
मुझे लगता है की पीएम मोदी का जीवन एक खुली किताब है जमीनी कार्यकर्ता से लेकर प्रधानमंत्री बनने तक उनके राजनैतिक सफर के बारें में बच्चा बच्चा जानता है और गूगल आदि पर उनसे सबंध पूर्ण विवरण भी मौजूद है। उसके बावजूद इस बात से इंकार नही किया जा सकता की फिल्म प्रदर्शन को लेकर विरोधी विचार धारा वाले विपक्षी दलों के नेता आचार संहिता केा लेकर इसके खिलाफ बवाल जरूर खड़ा कर सकते है।
मेरा मानना है की इस बात को ध्यान में रखते हुए फिल्म का प्रदर्शन चुनाव के बाद हो तो ज्यादा अच्छा है।
इसी प्रकार आचार संहिता लागु होने से पूर्व केन्द्र और प्रदेश सरकारों उपलब्धियों के प्रचार प्रसार हेतु प्रधानमंत्री तथा प्रदेशों के मुख्यमंत्रियों और काम कराने वाले विभाग के मंत्रियों के फोटों से युक्त पेट्रोल पम्पों, बस अड्डों रेलवे स्टेशनों, सार्वजनिक चैराहों सरकारी ईमारतों व कचहरी, हवाई अड्डों आदि में जो बड़े बड़े होल्डिंग लगाये गये थे उन्हे भाजपा के नेता और कार्यकर्ताओं तथा आचार संहिता का पालन कराने से सबंध अधिकारियों को तुरंत हटवाना चाहिए।
क्योकि अभी तो कांग्रेस द्वारा गत शुक्रवार को इन होर्डिग को लेकर निर्वाचन आयोग भारत सरकार को भाजपा द्वारा आचार संहिता का उल्घघन किये जाने से सबंध ज्ञापन दिया गया है। धीरे धीरे यह मुद्दा विकराल होता जायेगा और कांग्रेस के साथ साथ महागंठबधन और अन्य दलों के नेता भी इस मुद्दे पर मुखर होकर विरोध का च्रकव्यूह रचे इससे अच्छा है की उन्हे यह मौका ही सत्ताधारी दल ना दे क्योकि इससे कोई बहुत बड़ा प्रचार तो होने वाला नही है और ना ही वोट मिलने वाले है हां सबंधित विभागों के अधिकारी आचार संहिता का पालन ना कराने के लिए कार्यवाही का शिकार जरूर हो जायेगे और कुछ उम्मीदवारों के विरूद्ध भी जबरदस्ती का विवाद खड़ा हो सकता है।

इसे भी पढ़िए :  TikTok पर फ़िटनेस वीडियो बना कर फ़ेमस हुए मोहित मोर की अज्ञात लोगों ने हत्या कर दी

– रवि कुमार बिश्नोई
संस्थापक – ऑल इंडिया न्यूज पेपर्स एसोसिएशन आईना
राष्ट्रीय स्तर पर सक्रिय समाज सेवी संगठन आरकेबी फांउडेशन के संस्थापक
सम्पादक दैनिक केसर खुशबू टाईम्स
आनलाईन न्यूज चैनल ताजाखबर.काॅम, मेरठरिपोर्ट.काॅम

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

11 − 2 =