शाहिद अखलाक अगर काग्रेस उम्मीदवार के रूप में चुनाव लड़तें है तो?

306
loading...

छोटे बड़े सभी राजनीतिक दलो में इस समय लोकसभा चुनाव लड़ानें हेतु उम्मीदवार छाटने और जीताऊ प्रत्याशी ढुढने के लिए विचारो का महासग्राम जारी हैं अब ऐसे देश में कई दशक तक शासन करने वाली काग्रेस इससे अछूती तो नही रह सकती विचारो के इस महासग्राम में इसमें रमा पायलट तथा राजस्थान काग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष और राजस्थान के उपमुख्यंमत्री सचिन पायलट की पत्नी सारापायलट तथा भाजपा छोड़कर काग्रेस में शमिल हुए पूर्व सासंद श्री अवतार सिंह भडा़ना व कंाग्रेस मानवाधिकार संगठन के राष्ट्रीय सचिव विपुल महेश्वरी ओर कंाग्रेस के निष्ठावान जाट नेता चै0 यश पाल सिंह आदि के नाम तो लोकसभा उम्मीदवार के लिए चर्चा में है ही ।
लेकिन पूर्व में मेयर और सासंद रह चुके और 2019 का लोकसभा चुनाव लड़ने के लिए प्रयत्नशील हाजी शाहिद अखलाक को लेकर जब से यह चर्चा चली है। कि वो काग्रेस में शामिल होकर चुनाव लड़ सकतें है। तब सें कंाग्रेस से चुनाव लड़ने वालें नेताओं के समिकरण गड़बडा़नें लगें है। लेकिन अगर यह बात सही सिद्ध हो जाती है। तो यह कहा जा सकता है।कि एक और मजबूत उम्मीदवार मैदान में उतारनें के लिए कंाग्रेस के पास मौजूद हो सकता है।
बताते चले कि हाजी शाहिद के पिता शहर विधान सभा क्षेत्र से विधायक रह चुके है उसके बाद से शहिद अखलाक का शहर में भाईचारा कयाम रखने में काफी योगदान रहा है। कही भी कभी भी अगर कोई तनाव की स्थिति बनी तो हर तरीके सें माहौल को सामान्य बनाने में मेयर रहे पूर्व सांसद का बड़ा योगदान रहा ।
जहा तक नजर जाती है और चर्चा सुने को मिलती है। उससे यह स्पष्ट होता है। की अगर अन्तिम समय में सपा, बसपा, और रलोद गठबंधन द्वारा परिस्थितियों को ध्यान में रखकर शाहिद मजंूर को चुनाव मैदान में नही उतारा गया है। तो हाजी शाहिद अखलाक अगर काग्रेस में शामिल हो जाते है।तो मेरठ हापुड़ लोकसभा क्षेत्र से मजबूती से चुनाव लड़ने के साथ ही श्री राजेन्द्र अग्रवाल को चुनावी टक्कर दे सकते है।
क्योकि कंाग्रेस विचारधारा के तो सभी जातियों के मतदाताओें के वोट तो इन्हे मिलना पक्का है अन्य दलों के मुस्लिम मतदाता का रूझान भी इनकी तरफ हो सकता है।कुल मिलकर यह कहने में कोई हर्ज महसूस नही हो रहा है। कि अगर कांग्रेस हाजी शहिद अखलाक को अपने साथ लाने या वो खुद कांग्रेस में आने को तैयार हो जातें है तो मेरठ हापुड़ लोकसभा के चुनावी समीकरण बदलनें के साथ ही यहा चुनावी मुकाबला रोचक हो सकता है।

इसे भी पढ़िए :  तेजप्रताप यादव के अंग रक्षकों का आंतकपूर्ण कारनामा, आईना व एसएमए ने पटना में पत्रकारों से मारपीट की निंदा करते हुए दोषियों के विरूद्ध कार्यवाही की मांग की

 

 

– रवि कुमार बिश्नोई
संस्थापक – ऑल इंडिया न्यूज पेपर्स एसोसिएशन आईना
राष्ट्रीय स्तर पर सक्रिय समाज सेवी संगठन आरकेबी फांउडेशन के संस्थापक
सम्पादक दैनिक केसर खुशबू टाईम्स
आनलाईन न्यूज चैनल ताजाखबर.काॅम, मेरठरिपोर्ट.काॅम

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

four × two =