2 साल का बच्चा बना सबसे कम उम्र का अंगदाता, बचाईं 6 जिंदगियां

7
loading...

मुंबईः देश की आर्थिक राजधानी Mumbai में दो साल के बच्चे ने 6 ज़िंदगिया बचाई हैं, इसके साथ ये बच्चा सबसे कम उम्र का अंगदाता भी बन गया है. दो साल के बच्चे के Brain dead होने के बाद उसके अंगों को दान कर घातक बीमारी से जूझ रहे 6 मरीजों को जीवनदान दिया गया है. बच्चे को इलाज के लिए Mumbai के बॉम्बे अस्पताल में भर्ती कराया गया था. रविवार को डॉक्टरों ने बच्चे को ब्रेन डेड घोषित कर दिया, जिसके बाद परिवार ने अंग दान करने का फैसला लिया. बच्चे का हार्ट, किडनी, लिवर और आंखें दान कर दी गईं है.

इसे भी पढ़िए :  प्रगति मैदान में 39वां इंडिया इंटरनेशनल ट्रेडफेयर शुरू, मंगलवार से पब्लिक को मिलेगी ENTRY

बताया जा रहा है की मासूम को 4 February को बॉम्बे अस्पताल में उपचार के लिए भर्ती किया गया था. जहां इलाज के दौरान रविवार को उसकी स्थिति और भी खराब हो गई और डॉक्टरों ने उसे ब्रेन डेड घोषित कर दिया. अस्पताल से मिली जानकारी के मुताबिक बच्चे को ब्रेनस्टेम ट्यूमर था. ब्रेन डेड की खबर सुनते ही अभिभावक का कलेजा दर्द से फट गया, लेकिन शोक और दु:ख की इस घड़ी में भी वे मानवता नहीं भूले और बच्चे का अंगदान करके दूसरों की जिंदगी बचाने का फैसला लिया. उस बच्ची के माता पिता से बात करने के बाद यह मालूम पड़ा की वे पुणे के रहने वाले है और बच्ची के इलाज के लिए खास मुंबई आये हुए थे.

इसे भी पढ़िए :  NH-74 के चौड़ीकरण से संबंधित करप्‍शन केस में 21.96 करोड़ रुपये की संपत्तियां अटैच

बॉम्बे अस्पताल से मिली जानकारी के अनुसार, बच्चे का हार्ट चेन्नै स्थित अपोलो अस्पताल में भेजा गया है. एक किडनी लीलावती, जबकि दूसरी ग्लोबल अस्पताल को भेजी गई है. वहीं लिवर ठाणे स्थित Jupiter Hospital को दिया गया है. इसके अलावा बच्चे की आंख अंधेरी के एक आई बैंक को दी गई है. बॉम्बे अस्पताल के जनरल फिजिशियन गौतम भंसाली और वरिष्ठ हृदय रोग विशेषज्ञ Dr. Anil Sharma ने कहा कि बेहद कम उम्र में बच्चे को खोने के बाद भी अभिभावक दूसरों कि जिंदगी बचाने के बारे में सोचे यह बहुत बड़ी बात है.

इसे भी पढ़िए :  आपसी सहमति से सुलझाया जाए कालापानी विवाद का मसला

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

10 + twelve =