ई-सिगरेट : धूम्रपान छोड़ने में अधिक प्रभावी साबित हुई

7
loading...

लंदन। अगर आप धूम्रपान छोड़ने के बारे में सोच रहे हैं तो निकोटिन प्रतिस्थापन उपचार की तुलना में इलेक्ट्रोनिक सिगरेट, जिसे आम तौर पर E-cigaretteके रूप में जाना जाता है, इस लक्ष्य को हासिल करने में आपकी मदद कर सकती है। एक बड़े क्लीनिकल ट्रायल के नतीजों में इस बात का खुलासा हुआ है। New England Journal of Medicine में प्रकाशित एक अध्ययन के मुताबिक ई-सिगरेट निकोटिन प्रतिस्थापन उपचार की तुलना में धूम्रपान करने वालों को धूम्रपान छोड़ने में मदद करने में लगभग दोगुना प्रभावी है। ट्रायल में पाया गया कि E-Cigaretteके 18 Percent उपयोगकर्ताओं को एक साल बाद धूम्रपान से निजात मिल गई जबकि निकोटिन प्रतिस्थापन उपचार अपना रहे केवल 9.9 Percent ऐसा कर पाने में कामयाब रहे। इस ट्रायल में 900 स्मोकर शमिल हुए थे, जिन्हें निकोटीन छोड़ने संबंधी अतिरिक्त थेरेपी भी मुहैया कराई गई। Queen marie university of london में प्रोफेसर व मुख्य शोधकर्ता पीटर हाजेक ने कहा, धूम्रपान छोड़ने में मदद करने के लिए आधुनिक ई-सिगरेट की क्षमता के परीक्षण का यह पहला ट्रायल है।
ई-सिगरेट, निकोटिन प्रतिस्थापन उत्पादों के ‘Gold Standard’ के संयोजन के रूप में करीब दुगना प्रभावी है। हाजेक ने कहा, हालांकि धूम्रपान करने वाले लोगों की बड़ी संख्या ने कहा कि उन्होंने ई-सिगरेट की मदद से सफलतापूर्वक धूम्रपान छोड़ दिया। वहीं स्वास्य पेशेवर नियंत्रित ट्रायल से आए स्पष्ट प्रमाणों की कमी के कारण इसके उपयोग की सिफारिश को लेकर अभी भी असंतुष्ट हैं। अब इसमें बदलाव आ सकता है। यह नया अध्ययन 886 धूम्रपान करने वाले लोगों पर किया गया, जो ब्रिटेन National Health Service Stop Smoking सेवाओं में शरीक हुए थे। यह अध्ययन निकोटिन प्रतिस्थापन उपचार की रेंज की तुलना में New Refillable E-Cigarette की दीर्घकालिक प्रभावकारिता के परीक्षण के लिए किया गया था।

इसे भी पढ़िए :  Gully Boy Review: रणवीर का जुनून, आलिया का डेंजर Love, Valentine's Day पर राइट चॉयस है 'Gully boy'

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

eleven + 14 =