राफेल डील : राज्यसभा में पेश हुई CAG रिपोर्ट, पिछली डील से बताया बेहतर, कहा- 17.08 फीसदी रकम बचाई

9
loading...

नई दिल्ली: Rafale Deal पर CAG Report बुधवार को राज्यसभा में पेश कर दी गई है. इस रिपोर्ट में इसे 126 विमानों वाली पिछली डील से बेहतर बताया गया है. साथ ही कहा गया है कि पिछली Deal में बदलाव करने से देश का 17.08 Percent रकम बची है. Report में कहा गया है, ‘126 विमानों के लिए किए गए सौदे की तुलना में भारत ने भारतीय आवश्यकतानुसार करवाए गए परिवर्तनों के साथ 36 राफेल विमानों के सौदे में 17.08 फीसदी रकम बचाई है.’ इसके साथ ही इसमें कहा गया है, ‘पहले 18 राफेल विमानों का Delivery schedule उस schedule से 5 महीने बेहतर है, जो 126 विमानों के लिए किए गए सौदे में प्रस्तावित था.’ राज्यसभा में पेश की गई भारतीय वायुसेना में कैपिटल एक्विज़िशन्स पर सीएजी रिपोर्ट में 16 पन्नों में राफेल सौदे के बारे में जानकारी दी गई है.
साथ ही रिपोर्ट में कहा गया है, ‘ऑडिट में देखा गया कि भारतीय वायुसेना ने ASQR (Air staff qualitative requirements) की परिभाषा तय नहीं की थी. परिणामस्वरूप कोई भी वेंडर ASQR का पूरी तरह पालन नहीं कर पाया. प्रोक्योरमेंट प्रोसेस के दौरान ASQR लगातार बदले जाते रहे. इसकी वजह से तकनीकी तथा कीमत मूल्यांकन के समय दिक्कतें हुईं, तथा प्रतियोगी Tendering को नुकसान पहुंचा, जो Acquisition प्रक्रिया में देरी की प्रमुख वजह रहा.’

इसे भी पढ़िए :  इस चुनाव में भोजपुरी फिल्म स्टारों पर भाजपा ने जताया विश्वास

इसके अलावा बताया गया, ‘रक्षा मंत्रालय की टीम ने मार्च, 2015 में सिफारिश की थी कि 126 विमानों के सौदे को रद्द कर दिया जाए. टीम ने कहा था कि दसॉ एविएशन सबसे कम कीमत देने वाला नहीं है, तथा EADS (European Aeronautical Defense and Space Company) Tender Requirements को पूरी तरह पूरा नहीं करती.’

केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली ने CAG Report राज्यसभा में पेश होने के बाद एक के बाद एक कई tweet किए. उन्होंने कहा, ऐसा नहीं हो सकता कि सुप्रीम कोर्ट भी गलत हो, ‘CAG भी गलत हो, सिर्फ परिवार ही सही हो. सत्यमेव जयते. सच्चाई की हमेशा जीत होती है. राफेल पर CAG Report से सच की पुष्टि हुई. लोकतंत्र उन्हें कैसे दंडित करता है, जो लगातार देश से झूठ बोलते रहे हों. सीएजी रिपोर्ट से ‘महाझूठबंधन’ के झूठों की पोल खुल गई है.’

इसे भी पढ़िए :  Asian Athletics : स्वप्ना और मिक्स्ड टीम को सिल्वर मेडल, दुती 200 मी के सेमीफाइनल में

Rafael Deal पर CAG Report पेश होने से पहले कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, यूपी चेयपर्सन सोनिया गांधी और पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने बुधवार सुबह के बाहर प्रदर्शन किया. इस दौरान कांग्रेस के बड़े नेता भी प्रदर्शन में शामिल थे. प्रदर्शन के दौरान कांग्रेस नेताओं के साथ में कागज के जेट दिखाई दिए हैं.

बता दें, राफेल डील को लेकर राहुल गांधी और कांग्रेस लगातार PM मोदी पर निशाना साध रहे हैं. मंगलवार को राहुल गांधी ने प्रेस कांफ्रेंस कर पीएम मोदी पर निशाना साधा और कहा कि राफेल डील में वे अनिल अंबानी के मिडिल मैन की तरह काम कर रहे थे. इसी दौरान जब उनसे राफेल डील पर कैग की Report के बारे में पूछा गया तो राहुल ने कैग को ‘चौकीदार ऑडिटर जनरल’ नाम देते हुए कहा कि मौजूदा कैग राजीव महर्षि से सही Report की उम्मीद नहीं की जा सकती क्योंकि वह इस रक्षा सौदे का हिस्सा रहे हैं. राहुल गांधी ने कहा कि कैग की रिपोर्ट नरेंद्र मोदी की रिपोर्ट है.

उन्होंने कहा, ‘रिपोर्ट चौकीदार के द्वारा और चौकीदार के लिए लिखी गई है’. उन्होंने कहा कि राफेल मामले में बहुत सारे साक्ष्य सामने आए हैं. मौजूदा कैग खुद इस रक्षा सौदे से जुड़े फैसले में शामिल रहे हैं, ऐसे में वह सही Report नहीं दे सकते.

इसे भी पढ़िए :  मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने की युवाओं से अपील, सशक्त भारत के निर्माण में दें अपना सहयोग

साथ ही राहुल गांधी ने कहा कि अब साफ हो गया है कि राफेल सौदे में घोटाला हुआ है. एक ई-मेल सामने आया है. प्रधानमंत्री मोदी अनिल अंबानी के मिडिल मैन की तरह काम कर रहे थे. राहुल गांधी ने कहा कि अनिल अंबानी ने France के रक्षा मंत्री को सौदे की जानकारी दी. यानी उन्हें पहले ही पता था. जबकि HAL, Defense Minister और विदेश सचिव को भी यह नहीं पता था. PM को यह बताना चाहिए कि आखिर अनिल अंबानी को Deal से 10 दिन पहले ही कैसे सब पता चल गया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

17 + 17 =