‘पटाया’ एक शहर जो कभी सोता नहीं रातभर रहती है चकाचौध…

14
loading...

पटाया कभी सोता नहीं। रात-भर चकाचौंध रहती है। नीले समंदर की उठती लहरों के बीच हरियाली के मदमस्त नजारों की सौगात देता है यह शहर। मुझे नई-नई जगहों पर जाना काफी अच्छा लगता है। देश में दिल्ली, मुंबई, गोवा, देहरादून और अगर विदेशी शहरों की बात करूं, तो दुबई, मालदीव, बैंकॉक और पटाया कई बार गई हूं। इन सभी शहरों की शाम मुझे काफी लुभाती है। मैं अक्सर थाइलैंड और मालदीव शूटिंग के सिलसिले में जाती रहती हूं। इनमें से मुझे थाइलैंड से बेहद जुड़ाव है। यह बौद्ध भिक्षुओं का देश है, यहां खूबसूरत समुद्र तट हैं, प्राकृतिक नजारे हैं, जो अपनी ओर आकर्षित करते हैं।

यहां बैंकॉक के बाद दूसरा प्रमुख पर्यटन स्थल पटाया है
यहां बैंकॉक के बाद दूसरा प्रमुख पर्यटन स्थल पटाया है। यह बैंकॉक से करीब 165 किलोमीटर दूर है। बैंकॉक से पटाया तक पहुंचने में करीब आधा दिन लग जाता है। कहते हैं कि पटाया कभी न सोने वाला एक शहर है, यहां रातभर चकाचौंध रहती है, गाड़ियां का रातभर सड़कों पर दौड़ना, रातभर होटलों के रिसेप्शन काउंटर का खुला रहना, डिस्को पार्टी और समुद्र तट पर बसे होने के लिए पटाया को जाना जाता है। यह जगह घूमने-फिरने लायक सबसे बेहतर जगह है, जो सैलानियों को अपनी ओर आकर्षित करती है। पटाया सभी के लिए सबसे ज्यादा पसंदीदा स्थान बन गया है। पटाया नीले समुद्र की उठती लहरों के बीच हरियाली के मदमस्त नजारों की सौगात देता है, जिससे मैं और अन्य सैलानी यहां खिंचे चले आते हैं। पटाया में अद्वितीय समुद्री तट, द्वीप और पार्क हैं। यहां का प्रसिद्ध द्वीप कोह लर्न द्वीप है, जिसे बोलचाल में कोरल द्वीप कहते हैं। गल्फ ऑफ थाईलैंड का यह तट भी भारत के अंडमान और निकोबार तट जैसा नीला दिखाई देता है। यहां आप बहुत से वॉटर स्पोर्ट्स का आनंद ले सकते हैं। घूमने के लिए यहां पर स्कूटी किराए पर मिलती है। पटाया मनोरंजन के शहर के नाम से भी मशहूर है और यहां पर वॉकिंग स्ट्रीट है। इसके दोनों किनारों पर काफी इमारतें और नाइट क्लब जैसे गोगो बार, पियर डिस्को क्लब, हवाई क्लब, आयरन क्लब और एक्स जोन आदि हैं।

इसे भी पढ़िए :  बड़ी उम्मीद से अमेरिका पहुंचे इमरान खान, स्वागत के लिए कोई झांकने तक नहीं आया

यहां पर पैदल चलने वालों की इतनी भीड़ हो जाती है
यहां पर पैदल चलने वालों की इतनी भीड़ हो जाती है कि आसानी से गुजरना मुश्किल होता है। यहां बिताई हुई शाम मेरे जेहन में अभी तक बसी है। इस स्ट्रीट में कोई भी वाहन लाने की अनुमति नहीं है। पटाया में स्थित स्ट्रीट हिल्टन एक शानदार जगह है, जहां से सूर्यास्त के अद्भुत नजारे को देखा जा सकता है। स्ट्रीट हिल्टन पटाया बीच रोड पर सबसे ऊंची इमारत है, इसकी 34वीं मंजिल पर होरिजन बार है, यहां की बालकनी से आप पृथ्वी की वक्रता को भी निहार सकते हैं। पटाया में फ्लोटिंग मार्केट एक लोकप्रिय बाजार है, जहां रेस्तरां, सामान और फलों की दुकानें, सांस्कृतिक और कला प्रदर्शनियों के स्टॉल भी एक नंबर के हैंै। यहां होने वाला अल्काजार शो नृत्य, संगीत, नाटक और वेशभूषा का ऐसा प्रदर्शन है, जो आपको मंत्रमुग्ध कर देगा। यहां करीब एक घंटे के शो में थाई संस्कृति के बहुत से पहलुओं से आपको रूबरू करवाया जाता है। कहा जाता है कि शायद ही ऐसा कोई पर्यटक होगा, जो पटाया आए और इस शो को देखे बिना ही वापस चला जाए। कहते हैं कि पटाया में घूमने की शुरुआत इस शो से ही होती है।शाम के समय यहां पर लोगों की महफिल सजती है

इसे भी पढ़िए :  शीला दीक्षि‍त का निधन, PM मोदी ने जताया दुख, कहा-दिल्‍ली के विकास में उनका योगदान यादगार

हार्ड रॉक कैफे पटाया की बेहद शानदार और सबसे मजेदार जगह है। शाम के समय यहां पर लोगों की महफिल सजती है और गिटार की धुनों पर लोग थिरकते हुए नजर आते हैं। यह कैफे हार्ड रॉक सौंदर्य प्रतियोगिता और वार्षिक गिटार महोत्सव भी होस्ट करता है। नोंग नूच विलेज दक्षिण पूर्व एशिया में सबसे बड़ा और सबसे सुंदर वनस्पति उद्यान है। इसके साथ-साथ यह विश्व प्रसिद्ध भी है, क्योंकि यहां पर हाथियों का शो और थाई सांस्कृतिक शो होता है। यहां आप सुबह या दोपहर के समय कभी भी जाकर इसको देख सकते हैं। यह पटाया में सबसे महत्वपूर्ण आकर्षणों में से एक है। शॉपिंग करने के लिए बाजार में काफी अच्छे कलेक्शन्स उपलब्ध हैं। सबसे अच्छी बात यह है कि वॉकिंग स्ट्रीट या फ्लोटिंग मार्केट से खरीदारी करना एक अलग ही अनुभव है। थाईलैंड में थाई चाइनीज मूल के लोगों की अधिकता है। यहां पर आपको खाने पीने के लिए नूडल्स, प्रौन और नॉनवेज जैसी चीजें ही मिलेंगी। यहां कई भारतीय रेस्तरां भी है, जहां आप भारतीय व्यंजनों का लुत्फ उठा सकते हैं। यहां के लोग काफी सीधे, सरल और अच्छे स्वभाव के हैं। मैं इस समय जी टीवी एचडी पर आ रहे धारावाहिक ‘मनमोहिनी’ की शूटिंग में व्यस्त हूं। काम से फुर्सत होते ही थाईलैंड की सैर पर जरूर जाऊंगी।

इसे भी पढ़िए :  जनहित में मुख्यमंत्री जी कुष्ठ रोगियों को मकान और पेंशन देने के साथ ही इनकी शादियां और करा दीजिए

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

15 + 10 =