कलेक्ट्रर की बेटी पलेगी, पढ़ेगी आंगनबाड़ी मे, केन्द्र सरकार करे सम्मानित

36
loading...

प्रेरणास्त्रोत उदाहरण कही भी किसी भी रूप मे देखने और सुनने को मिल सकता है और अगर इससे सबंध व्यक्ति बड़ी पहचान वाला हो तो स्थिति सोने में सुहागा वाली किदवंती के समान हो जाती है क्योकि समाज में अगर उच्च स्तर से कोई व्यवस्था चलती है तो वो सबके लिए एक उदाहरण बन जाती है वर्तमान समय में शिक्षा के क्षेत्र में जब अभिभावकों की अपने बच्चों को साक्षर बनाने की भावना का आर्थिक और मानसिक तथा समाजिक शोषण करने में लगे शिक्षा माफिया लाभ उठा रहे है ऐसे समय में तिरूनेलवेली की जिला कलेक्ट्रर 2009 बैंच की आईएएस अधिकारी शिल्पा प्रभाकर द्वारा अपनी बेटी को आंगन बाड़ी केन्द्र में शिक्षा के लिए भेजकर एक उदाहरण प्रस्तुत किया है।
इस संदर्भ में छपीं खबर के अनुसार महिला कलेक्ट्रर का मानना है की आंगन बाड़ी समेकित बाल विकास केन्द्र होते है जिनमें बच्चों के स्वास्थ्य का ख्याल रखा जाता है बताया जा रहा है कि सुख सुविधाओं से युक्त प्ले स्कूलों की बजाय अपनी बेटी को आंगन बाड़ी केन्द्र में भेजने वाली शिल्पा प्रभाकर आंगनबाड़ी केन्द्रों की बड़ी समर्थक है।
मेरा मानना है की अंग्रेजी व प्ले स्कूलों में बच्चों की बढ़ती संख्या और शिक्षा माफियाओं द्वारा इसे लेकर अभिभावकों के विभिन्न प्रकार के किये जाने वाले उत्पीड़न को रोकने के लिए महत्वपूर्ण पहल करने वाली कलेक्ट्रर को केन्द्रीय मानव संस्थान मंत्रालय द्वारा विशेष रूप से सम्मानित किया जाना चाहिए। जिससे अन्य बड़े लोग भी प्रेरणा लेकर अपने बच्चों को ऐसी जगहों पर पढ़ने भेजकर अच्छी शिक्षा का माहौल देश में तैयार करने की ओर एक कदम आगे बढ़ा सके।

इसे भी पढ़िए :  एक जवान शहीद : अखनूर सेक्टर के केरी बटल इलाके में पाकिस्तान ने बरासाए गोले

– रवि कुमार बिश्नोई
संस्थापक – ऑल  इंडिया न्यूज पेपर्स एसोसिएशन आईना
राष्ट्रीय स्तर पर सक्रिय समाज सेवी संगठन आरकेबी फांउडेशन के संस्थापक
सम्पादक दैनिक केसर खुशबू टाईम्स
आॅनलाईन न्यूज चैनल ताजाखबर.काॅम, मेरठरिपोर्ट.काॅम

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

eleven + 8 =