हॉकी: पाकिस्तान को पैसों की तंगी, ओलंपिक क्वालिफायर से हटने को हो सकता है मजबूर

9
loading...

इस्लामाबाद: पाकिस्तान हॉकी की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं. टीम के खेल का स्तर तो नीचे जा ही रहा है. खिलाड़ियों को मिलने वाली सुविधाएं भी कम हो गई हैं. इन सबके पीछे एक बड़ी वजह पैसों की कमी भी है. पाकिस्कान हॉकी महासंघ (PHF) पैसों की कमी से जूझ रहा है. वह इसी कारण FIH प्रो हॉकी लीग से हटने पर विचार कर रहा है, जो 2020 ओलंपिक खेलों का Qualifying Tournament है.

यह पहला मौका नहीं है जब पाकिस्तान हॉकी इस तरह के संकट में फंसा है. पिछले साल जब भारत में हॉकी वर्ल्ड कप हुआ, तब भी पाकिस्तान हॉकी महासंघ के पास इसमें हिस्सा लेने के लिए पैसे नहीं थे. पीएचएफ ने इसके बाद अपने देश के क्रिकेट बोर्ड (PCB) से भी मदद मांगी थी, लेकिन उसे वहां भी निराश होना पड़ा था. बाद में एक कंपनी के सामने आने से PHF की मुश्किल दूर हुई.

इसे भी पढ़िए :  ऋतिक रोशन के साथ आलिया भट्ट की बचपन की तस्वीर हो रही है वायरल

पाकिस्तान को अब प्रो हॉकी लीग के पहले चरण के मैच में अर्जेटीना के ब्यूनस आयर्स में 2 February को खेलना है. इसके बाद टीम को ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड का दौरा करना है. पाकिस्तान को इसके दूसरे चरण के मैचों के लिए यूरोप का दौरा करना है. जाहिर है, इन दौरों पर काफी पैसे खर्च होंगे. एक आधिकारिक सूत्र ने बताया कि PHF धन की कमी के कारण प्रो लीग से हटने पर विचार कर रहा है. हालांकि, अगर वह इससे हटता है तो उसे अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिताओं से दो साल का निलंबन भी झेलना पड़ सकता है.

इसे भी पढ़िए :  शेर के मुंह पर इन लोगों ने दे मारा केक तो भड़क उठीं Bollywood actress, बोलीं- नर्क में सड़ेंगे...देखें Video

PHF के इस अधिकारी ने कहा, ‘ PHF ने अर्जेंटीना, ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड में होने वाले पहले चरण के मैचों के लिए लाहौर में अभ्यास शिविर लगाया है. इसके लिए 45 खिलाड़ियों को बुलाया गया है, लेकिन उनके दौरे के खर्च का इंतजाम अब तक नहीं हो सका है.’

Pakistan Hockey Team को पहले चरण के दौरे में लिए ढाई करोड़ और Europe में होने वाले दूसरे दौर के लिए लगभग सात करोड़ रुपए की जरूरत होगी. उन्होंने कहा, ‘PHF ने धन के लिए सरकार से संपर्क किया लेकिन वहां से कोई जवाब नहीं मिल रहा. ऐसा ही भारत में हुए विश्व कप के समय हुआ था, लेकिन तब हमने प्रायोजकों और कुछ निजी दान के माध्यम से धन का प्रबंध किया था.’

इसे भी पढ़िए :  पश्चिम बंगाल में नहीं थम रही राजनीतिक हिंसा, बम हमले में 3 TMC कार्यकर्ताओं की मौत

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

thirteen + 1 =