पर्यटन के लिए नगालैण्ड में बना जनजातीय सर्किट

7
loading...

नई दिल्ली। देश में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए पर्यटन मंत्रालय द्वारा शुरु की गई स्वदेश दर्शन परियोजना के तहत नगालैण्ड में पर्यटन का जनजातीय सर्किट पर्यटकों लुभाने के लिए तैयार हो गया है। लगभग 100 करोड़ की लागत से इस सर्किट का विकास पेरेन-कोहिमा-वोखा के बीच किया गया है। पर्यटन की स्वदेश दर्शन परियोजना के तहत 97.36 करोड़ रुपए की ‘जनजातीय सर्किट विकासरू पेरेन-कोहिमा-वोखा’ परियोजना को नवम्बर, 2015 में पर्यटन मंत्रालय ने मंजूरी दी थी। परियोजना के तहत मंत्रालय ने जनजातीय पर्यटक गांव, ईको लॉग हट्स, ओपन एयर थियेटर, जनजातीय कायाकल्प केन्द्र, कैफेटेरिया, हेलिपैड, पर्यटक विवेचन केन्द्र, वेसाइड सुविधाएं, सार्वजनिक जन सुविधाएं, बहुद्देशीय हॉल, ट्रैकिंग मार्ग जैसी सुविधाओं का विकास किया है।केन्द्रीय पर्यटन राज्य मंत्री केजे अल्फोंस तथा नगालैंड के सीएम नेफियू रियो बुधवार को नगालैंड में किसामा विरासत गांव में ‘‘जनजातीय सर्किट विकास रू पेरेन-कोहिमा-वोखा’ परियोजना का उद्घाटन करेंगे। यह स्वदेश दशर्न योजना के नगालैंण्ड में लागू होने वाली पहली परियोजना है। पर्यटन मंत्रालय ने नगालैंड के लिए 99.67 करोड़ रु पए की लागत वाली ‘‘मोकोचू-टयूनसांग-मोन’ परियोजना को भी मंजूरी दी।

इसे भी पढ़िए :  मोदी सरकार का 'मेगा जॉब प्रोग्राम', ऐसे पूरा होगा 10 लाख युवाओं को नौकरी देने का लक्ष्य

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

5 × 1 =