LA ऑटो शो में जीप ने हटाया बिल्कुल New Gladiator से पर्दा, जानें कितना खास है Pick-Up

34
loading...

नई दिल्ली। बिल्कुल New Jeep Gladiator Pick-up से कंपनी ने LA Auto Show में पर्दा हटा लिया है. जीप ग्लैडिएटर कंपनी की 5 डोर वाली जीप रैंगलर पर आधारित है और इसे पारंपरिक Body On Frame Chassis पर बनाया गया है. कार की बॉडी को काफी मजबूत बनाया गया है और रैंगलर से अलग इस पिक-अप में 5 फुट लंबा Slit bad दिया गया है जो सामान उठाने के काम आता है. Jeep Gladiator के साथ दोनों तरह के हार्ड-टॉप और सॉफ्ट-टॉप उपलब्ध कराए गए हैं और इस पिक-अप की बाकी पूरी प्रोफाइल जीप रैंगलर जैसी ही है. कार के अंदर जीप ने 7-इंच का इंफोटेनमेंट सिस्टम दिया है जो कार के सेंट्रल कंसोल पर डिस्प्ले करता है. इसके साथ ही विकल्प के तौर पर 8.4-इंच का सिस्टम भी उपलब्ध कराया गया है. कार के Instrument cluster पर भी 3.5-इंच का डिस्प्ले दिया गया है.

इसे भी पढ़िए :  प्रधानमंत्री के जीवन के संघर्ष को जानना चाहते हैं तो देखें विवेक ओबेरॉय की 'पीएम नरेंद्र मोदी'

पिक-अप में 5 फुट लंबा स्लीट बैड दिया गया है जो सामान उठाने के काम आता है

जीप ने ग्लैडिएटर में 3.6-लीटर का V6 पेंटास्टार पेट्रोल इंजन दिया है जो 281 bhp पावर और 353 Nm पीक टॉर्क जनरेट करने की क्षमता रखता है. कंपनी ने इस इंजन को 6-Speed Manual Gearbox से लैस किया है, इसके अलावा वैकल्पिक तौर पर कंपनी ने इस इंजन को 8-स्पीड ऑटोमैटिक गियरबॉक्स के साथ भी पेश किया है. 2020 में जीप ग्लैडिएटर के साथ 3.0-लीटर का 6-सिलेंडर डीजल इंजन भी मुहैया कराया जाएगा जो 256 bhp पावर और 600 Nm पीक टॉर्क जनरेट करने वाला होगा. इस इंजन को कंपनी 8-स्पीड ऑटोमैटिक गियरबॉक्स से लैस करेगी.

इसे भी पढ़िए :  चुनाव 2019: मध्य प्रदेश की 28 सीटों पर BJP आगे, साध्वी प्रज्ञा को 25000 वोटों की बढ़त

जीप ग्लैडिएटर के दोनों ही पेट्रोल और डीजल इंजन को सामान्य तौर पर 4-व्हील ड्राइव सिस्टम दिया गया है. जीप कार पर 726 किग्रा वजन लादे जाने तक 4*4 मोड पर चलाई जा सकती है और कंपनी ने इसके सस्पेंशन को बेहतरीन तकनीक का बनाया है. इसके साथ ही जीप ग्लैडिएटर के साथ 80 किस्म के एक्टिव और पेसिव सेफ्टी फीचर्स दिए हैं जिनमें ब्लाइंड स्पॉट मॉनिटरिंग, रियर क्रॉस पाथ डिटेक्शन, फॉर्वर्ड फेसिंग ऑफ-रोड कैमरा, रियर पार्किंग कैमरा, एडाप्टिव क्रूज़ कंट्रोल और इलैक्ट्रॉनिक स्टेबिलिटी कंट्रोल के साथ रोल मिटिगेशन शामिल हैं.

इसे भी पढ़िए :  बिजली वितरण कंपनियों पर 38,696 करोड़ बकाया

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

20 − 4 =