शरद पूर्णिमा पर चांद के नीचे रखने के लिए ऐसे बनाएं स्वादिष्ट खीर

9
loading...

शरद पूर्णिमा की रात को खुले आसमान में खीर रखने की प्रथा सदियों से चली आ रही है। ऐसा कहा जाता है कि इस दिन खुले आसमान में रखी जाने वाली इस खीर को खाने से सभी रोगों से मुक्ति मिलती है। मान्यता है कि इस दिन चांद अपनी सभी 16 कलाओं से भरा होता है, जिस वजह से चांद रात 12 बजे धरती पर अमृत बरसाता है।इसी अमृत को प्रसाद के तौर पर ग्रहण करने के लिए खीर चांद की रोशनी में रखी जाती है उसके बाद रात 12 बजे के बाद खीर उठाकर खा सकते हैं। तो इस मौके पर आपको बताते हैं स्वादिष्ट खीर बनाने की विधि।

इसे भी पढ़िए :  मिशेल ओबामा कि किताब 'Becoming' ने तोड़ा हिलेरी क्लिंटन की किताब का रिकॉर्ड, 50 लाख कॉपियां बिकी

सामग्री-
दूध, चावल, चीनी, इलाइची पाउडर, मेवे

खीर बनाने की विधि-
सबसे पहले एक मोटे तले वाले बर्तन में दूध डाल लें फिर इसे एक चौथाई भाग घटने तक पकाते रहें। उसके बाद जब दूध तीन चौथाई रह जाए तो इसमें दूध की मात्रा के अनुसार चावल डालें। एक करछी से इस मिक्स्चर को चावल पकने तक चलाते रहें। चावल अच्छे से पक जाने के बाद इसमें स्वादानुसार चीनी डालें। कुछ देर बाद खीर में इलाइची पाउडर और मेवे डालें। इससे खीर का स्वाद दोगुना हो जाता है। खीर को 5 मिनट और चलाएं फिर गैस बंद कर दें। शरद पूर्णिमा पर प्रसाद के लिए आपकी खीर तैयार है।

इसे भी पढ़िए :  RBI ने मानी सरकार की कई मांगें, दो दिन बाद सिस्टम में डालेगा 8,000 करोड़ रुपये

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

eighteen − 12 =