सरकारी स्कूल में हिंदू-मुस्लिम छात्रों को अलग-अलग बैठाकर!

loading...

अभी पिछले दिनों यूपी के बलिया में एक स्कूल में वंदेमातरम गाने और भारत माता की जय बोलने पर छात्रों को पीटा गया। उस घटना को लोग अभी भूल भी नहीं पाए थे कि अब देश की राजधानी दिल्ली में नगर निगम एनडीएमसी के एक प्रमुख स्कूल द्वारा हिंदू और मुस्लिम छात्रों को अलग अलग कमरों में बैठाकर दुर्भावना और पैदा करने का प्रयास किया गया है। एनडीएमसी के आयुक्त मधु व्यास द्वारा स्कूल प्रमुख को निलंबित कर दिया गया हैं मगर सवाल यह उठता है कि आखिर यह हो क्या रहा है।

इसे भी पढ़िए :  22 अक्टूबर दिन शुक्रवार 1982 जब मै अनपढ़ मजदूर से पत्रकार बना तो मेरे जीवन का अध्याय ही बदल गया

एक प्रदेश में वंदेमातरम और भारत माता जय बोलने पर छात्रों को पीटा जाता है तो देश की राजधानी के एक स्कूल में हिंदू मुस्लिम वर्ग के छात्र छात्राओं को अलग कक्षा में बैठाया जाता है। आखिर आपसी सदभाव और भाईचारा को नुकसान पहुंचाने वाली इस तरह की घटनाओं को रोकने के लिये सरकार के साथ साथ मुझे लगता है कि अब जनता और बुद्धिजीवियों को भी ध्यान देना होगा। वरना स्कूलों में यह जो हो रहा है उसका फर्क और असर समाज पर भी पड़ेगा और अगर ऐसा होता है तो समाज में दोहरी नीति के चलते हंगामे की स्थिति भी उत्पन्न हो सकती है। ऐसा न हों इसके लिये शिक्षा गृह और कानून मंत्रालय को विशेष रूप से ध्यान देकर ऐसी घटनाओं की पुनवर्ति रोकने के लिये समय अनुसार कदम उठाने चाहिये।

इसे भी पढ़िए :  सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश का विरोध, मी टू के चलते भ्रष्टाचार के बढ़ते, मातृशक्ति और पुरूषों के बीच बढ़ती खाई के चलते , क्या बुराईयों पर अच्छाई की विजय का कोई औचित्य नजर आता है?

-निवेदक
रवि कुमार बिश्नोई
राष्ट्रीय अध्यक्ष
आॅल इंडिया न्यूज पेपस एसोसिएशन आईना

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

eleven − ten =