तेल उत्पादकों के मूल्य घटाने के लिये प्रधानमंत्री की सराहनीय पहल

8
loading...

दुनियाभर की तेल कंपनियों के जिम्मेदार व्यक्तियों के साथ मोदी ने की बैठक

तेल और गैस की बढ़ती कीमतों से परेशान देशवासियों की समस्याओं से सरकार और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी शायद अनभिज्ञ नहीं है और उनके द्वारा इस संदर्भ में काफी सकारात्मक प्रयास किये जा रहे हैं। इसके परिणाम कब निकलेंगे यह तो भगवान ही जाने? मगर ईमानदार प्रयास मोदी जी द्वारा किये जा रहे हैं यह बात गत दिवस सोमवार 15 अक्टूबर को उस समय सामने आयी जब तेल उत्पादक देशों सउदी अरब और यूएई के मंत्री तथा आरामको, एडीएनओसी, बीपी, रास्नेफ्ट, आईएचएस, मार्किट, पायनीरयर नेचुरल, रिसोर्सिज कंपनी, एतसन इलेक्ट्रिक कंपनी टेलूरियन मुबाडला इनवस्टमेंट कंपनी सहित तेल क्षेत्र की कई कंपनियों के सीईओ आदि के साथ राजधानी दिल्ली में आयोजित एक सम्मेलन में उन्होंने तेल उत्पादक देश मौके का फायदा ना उठाए, दोस्ती निभाए तथा दाम घटाए। उन्होंने कहा कि तेल उत्पादक और उपभोक्ता देशों के बीच भागीदारों के संबंध पर जोर दिया। वैश्विक अर्थव्यवस्था मजबूत करने के लिये उन्होंने कहा कि फिलहाल तेल बाजार उत्पादकों के हिसाब से चल रहा है कच्चे तेल के उत्पादन की मात्रा और उसका मूल्य यह देश ही तय करते हैं। बाजार में उत्पादन प्राप्त मात्रा में हैं। लेकिन तेल क्षेत्र में विप्पड़न तरीके से दाम आसमान छूं रहे हैं। प्रधानमंत्री ने दूसरे बाजारों की तरह कच्चे तेल के बाजार में उत्पादक और उपभोक्ता के बीच मजबूत भागीदारी पर जोर दिया।
मुझे लगता है कि माननीय प्रधानमंत्री जी द्वारा किया गया यह प्रयास और तेल उत्पादक देशों से संबंध जिम्मेदार व्यक्तियों से की गई सीधी वार्ता का असर जरूर नजर आना चाहिये। और अगर ऐसा होता है तो तेलों के दामों में कम या ज्यादा कमी आएगी। इससे भी इंकार नहीं किया जा सकता।
प्रधानमंत्री जी ने नागरिकों की समस्याओं को समझा और प्रयास किया इसके लिये उन्हे बधाई तो दी ही जानी चाहिये साथ ही ऐसे सुझाव भी दिये जाए जिससे तेल उत्पादकों की खपत में कमी आए और सरकार के सुझाव कोे आम आदमी बिना किसी परेशानी के उन्हे लागू कर सकें।

इसे भी पढ़िए :  जीएसटी के बाद से अकाउंटिंग साफ्टवेयर की मांग बढ़ी

-निवेदक
रवि कुमार बिश्नोई
राष्ट्रीय अध्यक्ष
आॅल इंडिया न्यूज पेपस एसोसिएशन आईना

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

18 − ten =