RTI: गुजरातियों ने चार महीने में 18,000Cr रुपए के कालेधन की घोषणा की

17
loading...

नई दिल्ली: देश में लंबे समय से कालाधन मुद्दे पर हंगामा के बीच चौंकाने वाली खबर है. गुजरातियों ने आय घोषणा योजना (IDS) में महज चार माह में ही 18,000 करोड़ रुपए के कालाधन का खुलासा किया है. यह देश में घोषित कुल कालाधन का 29 फीसदी हिस्सा है. यह खुलासा RTI में मिली जानकारी से हुआ है.

June 2016 से सितंबर 2016 के बीच घोषणा
RTI के आंकड़ों के अनसार, June 2016 से सितंबर 2016 के दौरान कालाधन के रूप में इतनी बड़ी राशि का खुलासा हुआ है. यह नोटबंदी के ठीक दो माह पहले के आंकड़े हैं. उल्लेखनीय है कि नोटबंदी की घोषणा 8 November 2016 को हुई थी. देश में कालाधन के रूप में आय घोषणा योजना मद की कुल राशि 62,250 करोड़ रुपए है.

इसे भी पढ़िए :  कश्मीर घाटी के 17 एक्सचेंज में लैंडलाइन सेवाएं बहाल, जम्मू में 2जी मोबाइल इंटरनेट सेवाएं भी शुरु

सूचना देने में लग गए दो साल
टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के मुताबिक, आयकर विभाग को इससे संबंधित जानकारी देने में करीब दो साल का समय लग गया. यह आरटीई भारतसिंह झाला ने 21 दिसंबर 2016 को दाखिल की थी. उन्होंने यह आरटीआई अहमदाबाद के प्रोपर्टी डीलर महेश शाह के द्वारा 13,860 करोड़ की घोषणा के बाद दाखिल की थी.

इसे भी पढ़िए :  इलना के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष सुनील डांग ने कहा लघु और भाषाई समाचार पत्र संचालकों की समस्याओं के समाधान हेतु?

सूचना लेने में करना पड़ा संघर्ष
आयकर विभाग अभी भी नेताओं, पुलिस अधिकारियों और नौकरशाहों की आय संबंधित जानकारी देने को लेकर चुप्पी साधे है. झाला कहते हैं कि यह जानकारी लेने में मुझे दो साल तक संघर्ष करना पड़ा. पहली बार आवेदन पत्र ही गुम हो गया था, तब विभाग ने यह कह कर आवेदन अस्वीकार करने की बात कही कि यह गुजराती लिखा है. लेकिन बीते 5 सितंबर को मुख्य सूचना आयुक्त ने दिल्ली में आयकर विभाग को सूचना उपलब्ध कराने का आदेश दिया.

इसे भी पढ़िए :  जानें महिला ने Google पर ऐसा क्या सर्च किया कि उसका Bank account पल भर में खाली हो गया

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

16 + 8 =