इन खास परिस्थितियों में महिलाओं को भी है श्राद्ध का अधिकार..!!जरूर पढ़े..!!!

51
loading...

इलाहाबाद। पितृ पक्ष के दौरान पितरों की सद्गति के लिए विशेष परिस्थितियों में महिलायें भी श्राद्ध करने की हकदार हैं। गरूड़ पुराण में बताया गया है कि पति, पिता या कुल में कोई पुरु ष सदस्य नहीं होने या उसके होने पर भी यदि वह श्राद्ध कर्म कर पाने की स्थिति में नहीं हो तो महिला श्राद्ध कर सकती है। घर में कोई वृद्ध महिला है तो युवा महिला से पहले श्राद्ध कर्म करने का अधिकार उसका होगा।

किसी के पुत्र न हो और पति भी जीवित नहीं हो तो ऐसी स्थिति में पत्नी दिवंगत पति की आत्मा की शांति के लिए श्राद्ध कर्म कर सकती है। उसी कुल की विधवा भी श्राद्ध कर्म कर सकती है। पिता एवं माता के कुल में यदि कोई पुरु ष न हो तो भी उसे श्राद्ध कर्म करने का अधिकार है। वैदिक शोध एवं सांस्कृतिक प्रतिष्ठान कर्मकाण्ड प्रशिक्षण केंद्र के आचार्य डॉ. आत्माराम गौतम ने कहा कि शास्त्रों में बताया गया है कि श्राद्ध से प्रसन्न पितरों के आशीर्वाद से सभी प्रकार के सांसारिक भोग और सुखों की प्राप्ति होती है। पितरों के प्रति श्रद्धा पूर्वक किया गया कर्म ही श्राद्ध कहलाता है।

पितृगण भोजन नहीं बल्कि श्रद्धा के भूखे होते हैं। वे इतने दयालु होते हैं कि यदि श्राद्ध करने के लिए पास में कुछ न भी हो तो दक्षिण दिशा की ओर मुख करके आँसू बहा देने भर से ही तृप्त हो जाते हैं। आचार्य ने कहा कि आजकल पारिवारिक परिस्थितियों मे परिवार के पुरु ष सदस्य, पुत्र एवं पौत्र नहीं होने पर कई बार कन्या या धर्मपत्नी को भी मृतक के अन्तिम संस्कार करते या मरने के बाद श्राद्ध करते देखा गया है।

परिस्थितियो के अनुसार यह एक अन्तिम विकल्प ही है, जो अब धीरे धीरे चलन में आने लगा है। उन्होंने बताया कि कि धर्मसिन्धु समेत मनुस्मृति और गरुड पुराण आदि ग्रन्थ भी महिलाओं को पिण्डदान आदि करने का अधिकार प्रदान करती है। गरूड़ पुराण के अनुसार पितृ पक्ष के दौरान अमावस्या के दिन पितृगण वायु के रूप में घर के दरवाजे पर दस्तक देते हैं। वे अपने स्वजनों से श्राद्ध की इच्छा रखते हैं और उससे तृप्त होना चाहते हैं, लेकिन सूर्यास्त के बाद यदि वे निराश लौटते हैं तो श्राप देकर जाते हैं। श्रद्धापूर्वक श्राद्ध किए जाने से पितर वर्ष भर तृप्त रहते हैं और उनकी प्रसन्नता से वंशजों को दीर्घायु, संतति, धन, विद्या, सुख एवं मोक्ष की प्राप्ति होती है।

जो श्राद्ध नहीं कर पाते उनके कारण पितरों को कष्ट उठाने पड़ते हैं।आचार्य ने बताया कि गीता में लिखा है कि यज्ञ करने से देवता के संतुष्ट होने पर व्यक्ति उन्नति करता है लेकिन श्राद्ध नहीं करने से पितृ कुपित हो जाते हैं और श्राप देते हैं। ब्रह्म पुराण और गरूड़ के अनुसार श्राद्ध पक्ष में पितर की तिथि आने पर जब उन्हें अपना भोजन नहीं मिलता तो वे कुद्ध होकर श्राप देते हैं जिससे परिवार में मति, रीति, प्रीति, बुद्धि और लक्ष्मी का विनाश होता है। डा गौतम ने मार्कण्डेय और वायु पुराण के हवाले से बताया कि किसी भी परिस्थिति में पूर्वजों के श्राद्ध से विमुख नहीं होना चाहिए। व्यक्ति सामर्य के अनुसार ही श्राद्ध कर्म करे लेकिन श्राद्ध अवश्य करना चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

six + 17 =