टोरंटो फिल्म महोत्सव ‘मर्द को दर्द नहीं होता’ ने जीता अंतरराष्ट्रीय पुरस्कार

loading...

टोरंटो । निर्देशक वसन बाला की रोमांच व मारधाड़ से भरपूर फिल्म ‘‘मर्द को दर्द नहीं होता’ ने 43वें टोरंटो अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव (टीआईएफएफ) में शीर्ष पुरस्कार जीता। महोत्सव रविवार को संपन्न हुआ। यह फिल्म भारत की ओर से महोत्सव के ‘‘मिडनाइट मैडनेस’ सेगमेंट में अब तक का पहली प्रवेश था।

इसने पीपुल्स च्वाइस मिडनाइट मैडनेस अवॉर्ड जीता है। लेकिन कुल मिलाकर निर्देशक पीटर फेरेली की फिल्म ‘‘ग्रीन बुक’ ने ‘‘इफ बिएल स्ट्रीट कुड टॉक’ को हराकर पीपुल्स च्वाइस अवार्ड का शीर्ष पुरस्कार जीता। वसन बाला की फिल्म ‘‘असेसिनेशन नेशन’ और ‘‘हैलोवीन’ को हराकर पीपुल्स च्वाइस मिडनाइट मैडनेस अवार्ड जीता।

इसे भी पढ़िए :  MeToo: 'इंडियन आइडल 10' के जज पैनल से हटेंगे अनु मलिक, इन्होंने लगाया यौन उत्पीड़न का आरोप

राधिका मदान और अंकुर नय्यर के साथ अवार्ड को ग्रहण करते हुए बाला ने कहा, मुझे इससे पहले मंच पर उस समय बुलाया गया था, जब मैं चौथी कक्षा में था और यह आर्ट और क्राफ्ट के लिए था। मैंने कार्डबोर्ड काटे और फिर उन्हें चिपका दिया। मेरे लिए यह समान अनुभव है। पहले आप पटकथा लिखते हैं और फिर फिल्म बनाने से इसका मतलब नहीं होता और फिर जब आप फिल्म बना लेते हैं तो फिल्म महोत्सव में आने को लेकर संजीदा नहीं होते और जब फिल्म महोत्सव में आते हैं तो फिर इसकी स्क्रीनिंग सही समय पर पूरा करने से मतलब नहीं होता। यह मेरी जिंदगी है। मेरा मतलब कहीं होने से नहीं था। इसे बदलने के लिए टीआईएफएफ का शुक्रिया।

इसे भी पढ़िए :  क्यों अधिक उम्र में मां बनने को माना जाता है Taboo? जानिए क्या सोचते हैं लोग

‘‘मर्द को दर्द नहीं होता’ से अभिनेत्री भाग्यश्री के बेटे अभिमन्यु दसानी ने आगाज आगाज किया है। लंदन में रहने वाली भारतीय निर्देशक संध्या सूरी को फिल्म ‘‘द फिल्ड’ के लिए सर्वश्रेष्ठ लघु फिल्म पुरस्कार से सम्मानित किया गया। एक महिला के खेती बाड़ी पर आधारित इस फिल्म की शूटिंग भारत में हुई।

इसे भी पढ़िए :  भारतीयों को ज्यादा पसंद है मुफ्त डिजिटल कंटेट

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

two × 3 =