NDA के हरिवंश बने राज्यासभा के उपसभापति, मोदी बोले- जानकारी के बावजूद उन्होंने चंद्रशेखर के इस्तीफे की खबर नहीं छापी

loading...

नई दिल्ली: 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले राज्यसभा के उपसभापति के चुनाव में सत्ताधरी बीजेपी ने अपने उम्मीदवार के जीत के साथ ही एक बार फिर विपक्षी एकता को खंडित किया है. एनडीए के उम्मीदवार हरिवंश नारायण सिंह को 125 वोट मिले, जबकि कांग्रेस के उम्मीदवार बीके हरिप्रसाद को महज़ 105 मत ही मिले.

इस तरह एडीएन ने यूपी, के उम्मीदवार को 25 मतों से हरा हरा दिया. राज्यसभा में इस वक्त 244 सांसद हैं, लेकिन 230 सांसदों ने ही वोटिंग में हिस्सा लिया. एनडीए के उम्मीदवार को बहुमत के आंकड़े 115 से 20 वोट ज्यादा मिले.

बता दें कि 1977 से लगातार कांग्रेस का उम्मीदवार ही उपसभापति बनता था, इस लिहाज से एनडीए की ये जीत बेहद अहम मानी जारी है. हरिवंश की इस जीत में सबसे बड़ा योगदान बीजेडी का रहा जिसने तमाम मतभेदों को बावजूद एनडीए के उम्मीदवार को वोट किया.

हरिवंश को कांग्रेस की बधाई
राज्यसभा के उपसभापति चुने जाने के बाद कांग्रेस ने दिल खोलकर हरिवंश नारायण को बधाई दी. राज्यसभा में विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा कि हरिवंश नारायण न सिर्फ एनडीए के उपसभापति हैं, बल्कि राज्यसभा के उपसभापति हैं. उन्होंने उम्मीद जताई कि हरिवंश नारायण सदन का काम अच्छे तरीके से करेंगे.

इसे भी पढ़िए :  हिमाचल में 495 सड़कें अभी भी बंद, बसों के 868 रूट प्रभावित

आॅल इंडिया न्यूज पेपर्स एसोसिएशन ने पत्रकार हरिवंश जी को राज्यसभा उपसभा पति बने पर दी बधाई
पत्रकार हरिवंश जी के राज्यसभा उपसभा पति चुने जाने पर समाचार जगत में खुशी की लहर व्याप्त है मीडिया से जुडे़ लोगो को एक प्रेरणा स्त्रोत संदेश देने में सक्षम व्यक्तित्व के स्वामी हरिवंश जी को मजीठिया बोर्ड यूपी के सदस्य आॅल इंडिया सोशल मीडिया एसोसिएशन के राष्ट्रीय महासचिव, चेयरमेन आॅनलाईन न्यूज चैनल ताजाखबर.काॅम अंकित बिश्नोई, आॅल इंडिया न्यूज पेपर्स एसोसिएशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष रवि कुमार बिश्नोई हरियाणा प्रदेश अध्यक्ष श्री यशपाल राणा, वरिष्ठ पत्रकार श्री देवेन्द्र तोमर आदि द्वारा अपनी बधाई और शुभकामनाएं देते हुए प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी, भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अमित शाह सहित राजग के सभी नेताओं को एक पत्रकार से राजनेता बने हरिवंश जी को 20 वोटों के अंतर से जीताने के लिए आॅल इंडिया न्यूज पेपर्स एसोसिएशन आईना के सभी पदाधिकारियों व सदस्यों द्वारा धन्यवाद दिया गया है और आशा व्यक्त की गयी है की हरिवंश नारायण सिंह को सभी राज्यसभा संचालन में सहयोग देकर उनके तजुर्बो का देशहित में उपयोग हो। इस हेतु सहयोग देने का प्रयास करेगे।

पीएम मोदी की बधाई
हरिवंश की जीत के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उन्हें बधाई दी. पीएम मोदी ने पूर्व पीएम चंद्रशेखर से हरिवंश के रिश्ते का जिक्र किया और कहा कि उनका अनुभव काफी अधिक है. बधाई देते हुए पीएम मोदी ने कहा कि हरिवंश को पूर्व पीएम चंद्रशेखर के इस्तीफे का पहले से पता था, लेकिन उन्होंने किसी को इसकी खबर नहीं दी. उन्होंने अपने पद की गरिमा बरकरार रखी. मोदी ने हरिवंश की जमकर तारीफ की और उनकी पत्रकारिता के धर्म को निभाने का भी बखान किया. इसके साथ ही मोदी ने कहा कि अब सबको हरि कृपा मिलनी चाहिए.

इसे भी पढ़िए :  'मैं बेसब्र हूं, बेचैन हूं, व्‍याकुल हूं, अधीर हूं क्‍योंकि...', PM के भाषण की 15 अहम बातें

कौन हैं हरिवंश सिंह?
हरिवंश नारायण सिंह का जन्म 30 जून 1956 को बलिया जिले के सिताबदियारा गांव में हुआ था. हरिवंश जेपी आंदोलन से खासे प्रभावित रहे हैं. उन्होंने बनारस हिंदू विश्वविद्यालय से अर्थशास्त्र में एमए और पत्रकारिता में डिप्लोमा की पढ़ाई की और अपने कैरियर की शुरुआत टाइम्स समूह से की थी.

बैंक ऑफ इंडिया में भी की नौकरी
इसके बाद हरिवंश को साप्ताहिक पत्रिका धर्मयुग की जिम्मेदारी सौंपी गई. हरिवंश साल 1981 तक धर्मयुग के उपसंपादक रहे. इसके बाद उन्होंने पत्रकारिता छोड़ उन्होंने साल 1981 से 1984 तक हैदराबाद और पटना में बैंक ऑफ इंडिया में नौकरी की. साल 1984 में एक बार फिर हरिवंश ने पत्रकारिता में वापसी की और साल 1989 तक आनंद बाजार पत्रिका की सप्ताहिक पत्रिका रविवार में सहायक संपादक रहे.

इसे भी पढ़िए :  कंपनी की कमाई में शेयर होल्डर को Tax के लिए कैसे जवाबदेह बनाया जा सकता है - सोनिया गांधी

साल 2014 में पहली बार संसद पहुंचे हरिवंश
90 के दशक में हरिवंश बिहार के एक बड़े मीडिया समूह से जुड़े, जहां पर उन्होंने दो दशक से ज़्यादा वक़्त तक काम किया. अपने कार्यकाल के दौरान हरिवंश ने बिहार से जुड़े गंभीर विषयों को प्रमुखता से उठाया. इसी दौरान वह नीतीश कुमार के करीब आए इसके बाद हरिवंश को जेडीयू का महासचिव बना दिया गया. साल 2014 में जेडीयू ने हरिवंश को राज्यसभा के लिए नामांकित किया और इस तरह से हरिवंश पहली बार संसद तक पहुंचे.

राजपूत जाति से आते हैं हरिवंश
हरिवंश के बारे में कहा जाता है कि उन्होंने दिल्ली से लेकर पटना तक मीडिया में नीतीश कुमार की बेहतर छवि बनाने में बड़ा योगदान दिया है. हरिवंश राजपूत जाति से आते हैं और जानकारों की माने तो हरिवंश को उपसभापति का उम्मीदवार बनाकर एनडीए ने बिहार में राजपूत वोट बैंक को अपनी ओर खींचने की कोशिश भी की.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

18 + 15 =