तमिलनाडु प्रीमियर लीग में नहीं खेलेगा कोई बाहरी खिलाड़ी : सुप्रीम कोर्ट

loading...

नई दिल्ली: Supreme Court ने कहा कि तमिलनाडु क्रिकेट संघ द्वारा आयोजित Tamil Nadu Premier League (टीएनपीएल) Cricket Tournament में अन्य क्रिकेट संघों में पंजीकृत खिलाड़ियों को खेलने की इजाजत नहीं होगी. हालांकि, प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली एक पीठ ने कहा कि तमिलनाडु प्रीमियर लीग के मैच निर्धारित कार्यक्रम के मुताबिक ही जारी रहेंगे, क्योंकि प्रशासकों की समिति (COA) उन्हें पहले ही मंजूरी दे चुकी थी. यह समिति भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड का प्रशासन संभालती है.

TNCA की तरफ से पेश वरिष्ठ अधिवक्ता रंजीत कुमार ने दलील दी कि संबंधित क्रिकेट संघों से अनापत्ति प्रमाणपत्र प्रस्तुत करने पर बाहरी खिलाड़ियों को इस प्रतिष्ठित टूर्नामेंट में भाग लेने की इजाजत दी जाए.

इसे भी पढ़िए :  BB 12: अनूप जलोटा कर चुके हैं तीन शादियां , पहली पत्नी थी स्टूडेंट

उन्होंने कहा कि टूर्नामेंट में आठ टीमें हिस्सा ले रही हैं और हर टीम को राज्य से बाहर के दो खिलाड़ियों को शामिल करने की अनुमति है. सीओए की ओर से पेश वरिष्ठ अधिवक्ता पराग त्रिपाठी ने इन दलीलों का विरोध किया और कहा कि बीसीसीआई के संविधान के मसौदे को ध्यान में रखते हुए इसकी अनुमति नहीं दी गई.

इसे भी पढ़िए :  होर्मूसजी कामा चुने गये एबीसी के चेयरमैन, आईना, आईएनएस के सदस्यों ने दी बधाई

साथ ही उन्होंने कहा कि 2009 से कोई भी बाहरी खिलाड़ी इस टूर्नामेंट में नहीं खेल रहा है. आज यानि 12 जुलाई से शुरू हो रहे टीएनपीएल टूर्नामेंट में आठ टीमें हिस्सा ले रही हैं और हर टीम को 20 खिलाड़ियों का पूल रखने की इजाजत है.

बता दें कि BCCI के पूर्व अध्यक्ष एन श्रीनिवासन के वर्चस्व वाली TNCA ने सुप्रीम कोर्ट में COA के उस आदेश के खिलाफ याचिका दायर की थी, जिसमें सीओए ने टूर्नामेंट में राज्य से बाहरी खिलाड़ियों के खेलने पर मान्यता रद्द करने की धमकी दी थी. TNCA इस टूर्नामेंट में 16 बाहरी खिलाड़ियों को खिलाना चाहता था और इसके लिए उसने BCCI की एसजीएम में अनुमति भी ले ली थी, लेकिन विनोद राय की अगुआई में सीओए इसके खिलाफ है.

इसे भी पढ़िए :  PAK: पायलट ने क्रू मेंबर को तस्कर कहते हुए कहा- विमान से चले जाओ, फिर हुई हाथापाई

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

15 + eight =