भारतीय रेल को दुरुस्‍त करेंगे ‘Mystery Shopper’, ऐसे आपके सफर को भी बनाएंगे आसान

loading...

नई दिल्‍ली: Indian Railway Train में परोसे जाने वाले भोजन, गंदगी, रेलवे स्‍टाफ के बर्ताव और Train व स्‍टेशन पर गुणवत्‍ता के मानदंडों की जांच के लिए ‘Mystery Shopper’ की मदद लेगा. ये Mystery Shopper आम यात्री की तरह दिखेंगे लेकिन उनसे घुल-मिलकर रेल में गुणवत्‍ता की जांच करेंगे और शिकायत मिलने पर उसकी खबर सीधे रेल मंत्रालय को करेंगे. भारतीय रेल ने यह कदम भोजन में गड़बड़ी, गंदे टॉयलेट और स्‍टाफ के यात्रियों के साथ बदसलूकी की घटनाएं आम होने पर उठाया है. रेलवे इनकी पहचान गुप्‍त रखेगा. जल्‍द ही ये देशभर के रेल नेटवर्क में फैलकर हर उस घटना को रिपोर्ट करेंगे जिससे रेलवे की छवि खराब हो रही है. ये मिस्‍ट्री शॉपर रेलवे की Quality audit system का हिस्‍सा है. इनका इस्‍तेमाल आवभगत और Retail क्षेत्र में Market Research में किया जाता है. ऐसा पहली बार है जब रेलवे मिस्‍ट्री शॉपर की मदद लेगा. रेलवे बोर्ड गुणवत्‍ता की जांच की नीति को अंतिम रूप देने के चरण में है.

इसे भी पढ़िए :  कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि मैं PM नरेंद्र मोदी का विरोध करना छोड़ दूंगा, बशर्ते...

रेल अफसर से भी छिपाई जाएगी पहचान
इंडियन एक्‍सप्रेस की खबर के मुताबिक ये शॉपर Transporter Passenger Interface से भी रूबरू होंगे. फिर उन्‍हें तय मानकों के अनुरूप रेटिंग देंगे. यह प्रक्रिया मानकों के पालन में मददगार होगी. इस काम के लिए Quality control Of India को नामित किया जा सकता है, जो पेशेवरों की मदद से रेलवे को गुणवत्‍ता सुधारने में मदद करेगा. रेलवे की योजना स्‍काउट एंड गाइड की मदद लेने की भी है. स्‍वयं सेवी संस्‍थाओं से भी बातचीत चल रही है. खास बात यह है कि इन Mistry Shopper के बारे में रेल अधिकारी तक को नहीं बताया जाएगा. इस काम का बजट अभी तय नहीं हुआ है. उम्‍मीद है कि रेलवे पहले 50 मिस्‍ट्री शॉपर की मदद लेगा.

इसे भी पढ़िए :  भगवान की छवि से छुटकारा पाना चाह रहे सौरभ राज

क्‍या होता है Mystery Shopper
अमेरिका और ब्रिटेन में सबसे Mystery Shopper के जरिए मार्केट रिसर्च का चलन शुरू हुआ था, जो ग्राहकों के बीच जाकर ब्रांड की साख और उसके उत्‍पाद की गुणवत्‍ता पर लोगों से रायशुमारी करते हैं. इस रायशुमारी के आधार पर विभिन्‍न कंपनियां अपनी गुणवत्‍ता में सुधार करती हैं. मिस्‍ट्री शॉपर की रिपोर्ट बहुत विश्‍वसनीय मानी जाती है. बीते दशकों में फास्‍ट फूड चेन वाली कंपनियों, स्‍वास्‍थ्‍य सेवा क्षेत्र से जुड़ी कंपनियों आदि ने इनकी सर्वाधिक सेवा लेना शुरू कर दिया है. फिलवक्‍त रेलवे अपने सिस्‍टम को दुरुस्‍त बनाए रखने के लिए रोजाना 40 हजार से ज्‍यादा बार सत्‍यापन करवाता है. इनमें कई सरप्राइज चेक होते हैं. मिस्‍ट्री शॉपर के बारे में कुछ रेल अफसरों का कहना है कि यह सरप्राइज इंस्‍पेक्‍शन से एकदम अलग व्‍यवस्‍था होगी. इस काम में ऑडिटर का रोल होगा. इस वक्‍त रेलवे के पास टि्वटर और फेसबुक के जरिए रोजाना जो शिकायतें पहुंच रही हैं उनमें औसतन 6000 कार्रवाई करने योग्‍य होती हैं.

इसे भी पढ़िए :  पति को मंडप में देखकर पत्नी हुई आग बबूला

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

three × 4 =