अमेरिका में इस भारतीय महिला ने रचा इतिहास, सबसे बड़ी ऑटो कंपनी में होंगी CFO

37
loading...

नई दिल्‍ली: वैश्विक कॉरपोरेट जगत में एक और भारतीय महिला इतिहास रचने के करीब है. दिव्‍या सूर्यदेवड़ा दुनिया की सबसे बड़ी ऑटो कंपनी का CFO (मुख्‍य वित्‍तीय अधिकारी) पद संभालेंगी. जनरल मोटर्स (GM) ने भारतीय कॉरपोरेट दिव्‍या सूर्यदेवड़ा को यह जिम्‍मेदारी सौंपी है. दिव्‍या फिलवक्‍त कंपनी के Corporate finance department की उपाध्‍यक्ष हैं. वह 1 September 2018 को यह पदभार ग्रहण करेंगी. General Motors America की Number 1 ऑटो निर्माता कंपनी है. 39 वर्षीय दिव्‍या ने GM के कई बड़े व महत्‍वपूर्ण सौदों में अहम भूमिका निभाई है. इससे कंपनी के पुनर्गठन की प्रक्रिया को काफी मजबूती मिली थी. इसमें कंपनी की यूरोपीय इकाई ओपल का मामला हो चाहे क्रूज के अधिग्रहण का. दोनों ही सौदे कंपनी के लिए महत्‍वपूर्ण थे. उनकी भूमिका में ही जापान के सॉफ्ट बैंक ने कंपनी में 2.25 अरब डॉलर का निवेश किया.

इसे भी पढ़िए :  शहीदों का बलिदान व्‍यर्थ नहीं जाएगा, गुनहगारों को जरूर मिलेगी सजा : PM मोदी

13 साल से हैं Company के साथ
डेट्रॉयट स्थित कंपनी में दिव्‍या 13 साल से काम कर रही हैं. उन्‍होंने कंपनी की रेटिंग सुधारने में बड़ा रोल अदा किया है. इससे कंपनी की क्रेडिट सुविधा बढ़कर 14.5 अरब डॉलर पर पहुंच गई. जुलाई 2017 में उन्‍हें कंपनी के Corporate finance department का उपाध्‍यक्ष बनाया गया. इसके साथ ही उन्‍हें निवेशकों के प्रोत्‍साहन की जिम्‍मेदारी भी सौंपी गई थी. 2016 में उन्‍हें ऑटोमोटिव क्षेत्र की ‘Rising star’ का खिताब दिया गया था. भारत में कॉलेज की पढ़ाई पूरी करने के बाद दिव्‍या अमेरिका चली गई थीं. उस समय वह 22 साल की थीं. उन्‍होंने वहां जाकर हार्वर्ड में पढ़ाई की. पहली नौकरी यूबीएस में मिली थी. उसके एक साल बाद वह जीएम में आ गईं.

इसे भी पढ़िए :  Pulwama Terror Attack : सुरक्षा मामलों की कैबिनेट समिति में फैसला, पाकिस्तान से 'मोस्ट फेवर्ड नेशन' का दर्जा छीना गया

Newyork में रहता है परिवार
इकोनॉमिक टाइम्‍स की खबर के मुताबिक दिव्‍या का परिवार (पति व बच्‍ची) न्‍यूयॉर्क में रहता है. जब परिवार से मिलना होता है तो वह Detroit से न्‍यूयॉर्क आती हैं. दिव्‍या को नई जिम्‍मेदारी चक स्‍टीवेंस के retirement के साथ मिलेगी. स्‍टीवेंस जीएम के साथ पिछले 40 साल से काम कर रहे हैं. वह जनवरी 2014 में सीएफओ बने थे.

इसे भी पढ़िए :  Pulwama Attack: प्रयागराज से जबलपुर ले जा रहे थे शहीद जवान का शव, कटनी में रुके तो उमड़ पड़ी भीड़

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

two × four =