घर खरीदारों के लिए बड़ी खुशखबरी, मोदी सरकार देगी अब ये ‘बड़ा’ तोहफा

loading...

नई दिल्ली: मोदी सरकार घर खरीदारों के लिए बड़ी खुशखबरी लेकर आई है. सरकार ने प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत घरों के साइज में बड़ा बदलाव किया है. मिडिल इनकम ग्रुप यानि MIG-I और MIG-II कैटेगरी में घरों का कार्पेट एरिया बढ़ा दिया गया है. MIG-I में एरिया 120 वर्गमीटर से बढ़ाकर 160 वर्गमीटर कर दिया गया है. वहीं, MIG-II में घरों का एरिया 150 वर्गमीटर से बढ़ाकर 200 वर्गमीटर कर दिया गया है. MIG-I में सालाना 6 से 12 लाख तक कमाने वाले वालों को और MIG-II में 12 से 18 लाख तक कमाने वालों को घर के लिए लोन मिलता है.

मिलेगा Subsidy का भी फायदा
सरकार का यह फैसला 1 January 2017 से प्रभावी होगा. मतलब यह कि अगर आपने 1 जनवरी 2017 के बाद मकान खरीदा है और बढ़े हुए Carpet area में खरीदा है तो आपको प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत मिलने वाली Subsidy का भी फायदा मिलेगा. सरकार ने यह भी जानकारी दी है कि 11 जून तक 736 करोड़ रुपए की Subsidy लोगों दी जा चुकी है.

इसे भी पढ़िए :  डिजिटल इंडिया : मार्च तक ब्रॉडबैंड से जुड़ जाएंगी ग्राम पंचायतें

Middle class को सबसे ज्यादा फायदा
इन बदलावों से मिडिल क्लास को अब सबसे ज्यादा फायदा मिलेगा. गौरतलब है कि MIG-I में 6-12 लाख रुपए कमाई वालों को लोन पात्रता होती है. वहीं, MIG-II में 12-18 लाख रुपए कमाई वालों को लोन पात्रता होती है. MIG-I में ग्राहक को 4 फीसदी की लोन Subsidy मिलती है. MIG-II में ग्राहक को 3 फीसदी की लोन Subsidy मिलती है. MIG-I में ग्राहक को 235068 का सीधा फायदा मिलेगा. वहीं, MIG-II में ग्राहक को 2,30,156 रुपए का सीधा फायदा मिलेगा.

इसी साल आवंटित होंगे घर
इकोनॉमिक टाइम्स की खबर के मुताबिक, शहरों में कुल 1.18 Crore घरों का निर्माण 2022 के बजाए साल 2020 तक पूरा हो जाएगा. वहीं, ग्रामीण इलाकों में 1 करोड़ घरों का निर्माण इस साल के अंत तक आवंटित कर दिए जाएंगे. आवंटन करने के पीछे मकसद है कि लोगों को भरोसा होगा कि उनको मकान मिलने वाले हैं. बता दें, इससे पहले 45 लाख घरों को मंजूरी दी जा चुकी है.

इसे भी पढ़िए :  शाही जोड़े ने नंगे पैर बोन्डी तट की सैर की

ग्रामीण इलाकों में पहले मिलेंगे घर
सरकार की योजना के तहत गरीबों को घर देने का मकसद pradhan mantri awas yojana को ग्रामीण इलाकों तक लेकर जाना है. पहले इन्हीं इलाकों में घर दिए जाएंगे. गरीबों को घर मिलने से एक बड़ा बदलाव आएगा और न्यू इंडिया का निर्माण होगा.

उत्तर प्रदेश में बनाए गए 8 लाख घर
pradhan mantri awas yojana के तहत सबसे ज्यादा घर उत्तर प्रदेश में बनाए गए हैं. राज्य के ग्रामीण इलाकों में घरों की कमी सबसे ज्यादा थी. यही वजह है कि पिछले एक साल में उत्तर प्रदेश सरकार ने 8 लाख घर बनवाएं हैं. यह किसी भी राज्य से ज्यादा हैं. यही नहीं राज्य में घर लेने वाले लोगों को 1.2 लाख रुपए की Subsidy भी दी गई है.

और किन राज्यों में कितने घर
पिछले एक साल में मध्य प्रदेश ने 6 Lakh घरों का निर्माण किया है. वहीं, Rajasthan में 3.5 लाख घरों का निर्माण किया है. Pradhan Mantri Awas Yojana के तहत अभी तक 40 लाख से ज्यादा घरों का निर्माण पूरा हो चुका है. June तक हमारा लक्ष्य 60 लाख घर बनाने का है. बाकी 40 लाख घरों का निर्माण December 2018 तक बनाने का लक्ष्य है.

इसे भी पढ़िए :  चीन को टक्कर देगा Railway का यह प्लान, 83 हजार करोड़ होंगे खर्च

2016 में Launch हुई थी योजना
Pradhan Mantri Awas Yojana को पीएम मोदी ने 2016 में लॉन्च किया था. इसकी deadline मार्च 2019 रखी गई थी. एक तरफ ग्रामीण इलाकों में जहां 40 लाख घर बनाए जा चुके हैं. वहीं, शहरी इलाकों में जमीन और पैसे की समस्या के चलते 5 लाख घरों का ही निर्माण हुआ है. यहां अभी 22 लाख घरों का निर्माण और होना है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

one + twenty =