सचिव अल्पसंख्यक आयोग ने की अल्संख्यकों को बैक ऋण की समीक्षा

loading...

मेरठ. आयुक्त सभागार में अल्पसंख्यक समुदाय को सुगमता से ऋण की उपलब्धता को सुनिश्चित करने के उद्देश्य से आयोजित बैठक की अध्यक्षता करते हुए सचिव राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग नई दिल्ली जेआरके राॅव ने कहा कि नई राहें व नई दिशाओं से अल्पसंख्यकों की आर्थिक स्थिति सुदृढ होगी। उन्होंने बंैंक प्रतिनिधियों को सोच में परिवर्तन करने, बैंकिग प्रतिनिधि व नाॅन बैंंिकग फाईनेन्शियल कम्पनी की सहायता लेने व रमजान माह में मस्जिदों के मैसिज व डिस्पले के माध्यम से अपनी बात कहने के लिए कहा। इस अवसर पर आयुक्त डा0 प्रभात कुमार सहित मण्डल के जनपदों के मुख्य विकास अधिकारियो व अन्य अधिकारीगण उपस्थित रहे।
सचिव राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग नई दिल्ली जेआरके राॅव हा कि अल्पसंख्यक समुदाय को आसानी से ऋण उपलब्ध हो इसके लिए सभी बैक अपनी सोच में परिवर्तन करें तथा अल्पसंख्यक समुदाय को ऋण लेकर व उद्यम लगाकर अपनी आर्थिक स्थिति सुदृढ करने के लिए प्रेरित करें। उन्होंने कहा कि जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी बैकों से बेहतर समन्व्य स्थापित करें तथा बताया कि अल्पसंख्यक मंत्रालय का डाटा जिला स्तरीय अधिकारियों से भी सांझा किया जाएगा।
उन्होंने कहा कि अधिक से अधिक अल्पसंख्यक समुदाय को ऋण लेकर उद्यम लगाने के लिए प्रेरित करने के उद्देश्य से बैंकिंग प्रतिनिधियों व नाॅन बैंकिग फाईनेन्शियल कम्पनी की सहायता ली जाए तथा माइक्रो फाईनेन्स को बढावा दिया जाए। उन्होनंे कहा कि महिलाओं को ई-रिक्शा आदि के भी लोन उपलब्घ करायें जायें। उन्होंने रमजान माह में मस्जिदों के माध्यम से लोगो को योजनाओं के प्रचार, ऋण लेकर उद्यम लगाने के लिए प्रेरित करने व ऋण वापसी के सम्बंध में मैसिज व डिस्पले के माध्यम से अपनी बात कहने के लिए बैक अधिकारियों व अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारियों को निर्देशित किया।
आयुक्त डा0 प्रभात कुमार ने कहा कि औसत से कम व औसत से ऊपर कितने ऋण बैंकों द्वारा दिये गये इसका मूल्यांकन कर उस पर कार्य करने की आवश्यकता है। उन्होंने मुख्य विकास अधिकारियों को निर्देशित किया कि वह प्रत्येक माह इसकी समीक्षा करें तथा सोने के बदले ऋण देने की बैंकों की व्यवस्था का व्यापक प्रचार प्रसार कर लोगो को इस सुविधा से लाभ उठाने के लिए प्रेरित करने के लिए कहा।
उन्होंने कहा कि मण्डल के प्रत्येक जनपद में पांच पांच अल्पसंख्यक बहुल्य ग्रामों का चिन्हीकरण कर वहां के लोगो को प्रेरित कर व योजनाओं से आच्छादित कर उनका जीवन स्तर सुदृढ कराया जाए ताकि एक-एक कर सभी ग्रामों में इसको लागू किया जा सकें। उन्होंने बताया कि बैंकों में एक रजिस्टर बनाकर ऋण के आवेदनों व स्वीकृति के सम्बंध में एक रजिस्टर बनाने के लिए भी कहा गया है।
संयुक्त विकास आयुक्त एबी मिश्रा ने बताया कि मा0 प्रधानमंत्री भारत सरकार के अल्पसंख्यकों के उत्थान के लिये नये 15 बिन्दुओं पर आधारित कार्यक्रम पर कार्य चल रहा है जिसमें आईसीडीएस सर्विस की उपलब्धता, शैक्षणिक शिक्षा में सुधार, उर्दू की शिक्षा को बढावा देना, मदरसों का आधुनीकरण, मेधावी छात्रों को छात्रवृत्ति, स्वरोजगार, कौशल विकास, ग्रामीण आवासीय योजना में समुचित लाभ देना आदि है।
जिला अग्रणी बैंक प्रबंधक मेरठ अविनांश तांती ने बताया कि अल्पसंख्यक समुदाय को कई प्रकार के ऋण उपलब्ध कराये जा रहे है जिसमें मुख्य कृषि, मुद्रा योजना, एमएसएमई, व उद्योग आदि है। उन्होंने बताया कि वित्तीय वर्ष 2017-18 में मण्डल में एक लाख 74 हजार 627 लाभार्थियों को 310635 लाख रूपये के ऋण उपलब्ध करायंे गये है। इस प्रकार कुल 31 अरब रूपये से ज्यादा के ऋण उपलब्ध करायें गये है। उन्होंने बताया कि इसमें मेरठ में 16127 लाभार्थियों को 22671 लाख रूपये, गौतमबुद्वनगर में 11573 लाभार्थियों को 77945 लाख रूपये, गाजियाबाद में 3106 लाभार्थियों को 11411 लाख रूपये, बागपत में 19633 लाभार्थियों को 39282 लाख रूपये से , हापुड़ में 11330 लाभार्थियों को 43912 लाख रूपये व बुलन्दशहर में 112858 लाभार्थियों को 115414 लाख रूपये के ऋण उपलब्ध करायें गये है।
उपनिदेशक अल्पसंख्यक कल्याण विभाग मौ0 तारिक ने बताया कि मण्डल में अल्पसंख्यक समुदाय के लिए पांच मिनी आईटीआई संचालित है तथा मदरसों के आधुनिकीकरण के लिए कार्य किये जा रहे है तथा अल्पसंख्यक समुदाय के बच्चों को सरकार द्वारा छात्रवृत्ति व शुल्क प्रतिपूर्ति भी उपलब्ध करायी जा रही है तथा अल्पसंख्यक समुदाय के निर्धन व निराश्रित अभिभावकों की पुत्री के विवाह हेतु अनुदान भी उपलब्ध कराया जा रहा है।
उपनिदेशक अल्पसंख्यक कल्याण विभाग ने बताया कि मण्डल के बागपत, मेरठ, गाजियाबाद व हापुड़ पर दों-दों माॅडल इंटर कालेजों का निर्माण जिसमें से एक छात्रों व एक छात्राओं के लिए किया जा रहा है जिसमें प्रति माॅडल की लागत 302 लाख रूपये है, साथ ही मल्टी सेक्टरोल प्रोग्राम के माध्यम से अनेकों कार्यक्रम मण्डल में संचालित है तथा मण्डल के 18 अल्पसंख्यक बाहुल्य ब्लाॅकों में भी योजनान्तर्गत कार्य कराया जा रहा है।
इस अवसर पर सभी जिला अग्रणी बैक प्रबंधकों ने अपन अपने जिले की आख्या प्रस्तुत की तथा मण्डल के सभी मुख्य विकास अधिकारियों ने अपने विचार व सुझाव व्यक्त किये।
इस अवसर पर आयोग के सलाहकार क्यू जे. अहमद, अनुसचिव अरूणवा सेन गुप्ता, मुख्य विकास अधिकारी गाजियाबाद रमेश रंजन, हापुड़ दीपा रंजन, बुलन्दशहर ईशा दुहन, बागपत हुबलाल, गौतमबुद्धनगर अनिल कुमार सिंह, एलडीएम हापुड़ राकेश कुमार श्रीवास्तव, एलडीसीएम बागपत राजू पीवी, जिला विकास अधिकारी मेरठ अतुल मिश्रा, जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी गाजियाबाद सोन कुमार, हापुड़ मुश्ताक अहमद, बुलन्दशहर महेश, गौतमबुद्धनगर आनन्द सिंह, उपनिदेश्क संस्थागत वित्त निसार अहमद आदि उपस्थित रहे।

इसे भी पढ़िए :  तेल उत्पादकों के मूल्य घटाने के लिये प्रधानमंत्री की सराहनीय पहल

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

3 × three =