गुजरात के 5 हजार किसानों ने मांगी इच्छा मृत्यु की इजाजत, बोले- जमीन तो छीन ली.. अब मरने दो

loading...

अहमदाबाद। Gujarat के भावनगर जिले में करीब 5,000 से ज्यादा किसान राज्य विद्युत उपक्रम द्वारा भूमि अधिग्रहण किए जाने के खिलाफ संघर्षरत हैं। इन किसान परिवारों ने अधिकारियों को पत्र लिखकर इच्छा मृत्यु की अनुमति मांगी है। किसान संगठन के एक नेता ने ऐसा दावा किया है।

farmers के अधिकारों के लिए संघर्ष करने वाले संगठन गुजरात खेदुत समाज के सदस्य और Farmer Narendra Singh Gohil ने दावा किया, इस कदम से प्रभावित होने वाले 12 प्रभावित गांवों के किसानों और परिवार के सदस्यों को मिलाकर कुल 5,259 लोगों ने इच्छा मृत्यु की मांग की है।

इसे भी पढ़िए :  पहली बार निजामपुर में चढ़ी दलित की बारात, पुलिस फोर्स के साथ दूल्हा पहुंचा दुल्हन के घर

गोहिल ने दावा किया कि इन किसानों और उनके रिश्तेदारों की ओर से हस्ताक्षरित पत्रों को भारत के राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री और गुजरात के मुख्यमंत्री को भेज दिया गया हैष। भावनगर के District Collector Harshad Patel ने कहा कि किसानों ने यह पत्र कलेक्ट्रेट की रजिस्ट्री शाखा में डाले हैं जिसमें उन्होंने इच्छा मृत्यु की अनुमति मांगी है।

इसे भी पढ़िए :  एयरहोस्टेस अनिसिया मर्डर केस को अब यूं सुलझाएगी पुलिस, दोबारा होगा पोस्टमार्टम

किसानों ने पत्र में राज्य सरकार, जीपीसीएल पर जमीन खाली कराने के लिए पुलिस बल का इस्तेमाल करने का आरोप लगाया है. किसानों ने दावा किया कि वे उस जमीन पर कई वर्षों से खेती कर रहे हैं. किसानों ने दावा किया कि जीपीसीएल जमीन अधिग्रहण करने के 20 वर्ष से अधिक समय बाद उस पर अधिकार करने का प्रयास कर रही है. उन्होंने कहा कि ऐसा कदम कानून के खिलाफ है.

इसे भी पढ़िए :  भाजपा जो सीट देगी उसी पर चुनाव लड़ूंगा: राजभर

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

four × 4 =