बाजरे से बने इस फूड्स के इस्तेमाल से बढ़ सकता है आपका वज़न।

35
loading...

अगर आप ढेर सारे foods को अपनी diet में शामिल करने के बावजूद अंडरवेट हैं और वज़न बढ़ाना चाहते हैं तो आज की हमारी सलाह पर ज़रूर ध्यान दें। वज़न बढ़ाने के लिए अन्य food के साथ-साथ आप बाजरे का इस्तेमाल करते हैं तो यकीन मानिए आपके शरीर को सही Nutrients मिल पाएंगे। इसके साथ ही आपका वज़न भी बढ़ना शुरू हो जाएगा। पुरानी जेनरेशन के लोग गेंहू, चावल के साथ-साथ बाजरे का भी खूब सेवन करते थे, जिसकी वज़ह से उनका शरीर तंदरुस्त रहता था। आज के वक्त में सही diet न मिल पाने की वजह से अंडरवेट एक गंभीर समस्या है। हालांकि बाजरा गर्म होता है जिस वजह से इसका गर्मियों में ज़्यादा इस्तेमाल न करके संतुलित मात्रा में ही इस्तेमाल करना चाहिए।

इसे भी पढ़िए :  भूलने की बीमारी है तो करें सबसे सस्ता उपाय...

बाजरे में मौजूद nutrients को अगर आप गिनने बैठ जाएंगे तो आपको हैरानी ही होगी, क्योंकि इसके अंदर आपके शरीर को स्वस्थ्य रखने के लिए ढेर सारे पोषक तत्व मौजूद हैं। बाजरे के अंदर Magnesium, Calcium, Magnesium, Tryptophan, Phosphorus, Fiber, Vitamin B and Antioxidant होते हैं।

अगर आप वज़न बढ़ाना चाहते हैं तो बाजरे से बनी इस डिश को अपनी diet में ज़रूर शामिल कीजिए। इस डिश को बनाने के लिए बाजरे की एक रोटी, आधा कटोरी देसी घी और सिर्फ चीनी चाहिए। बाजरे की रोटी को छोटे-छोटे टुकड़ों में तोड़कर उसमें घी और शक्कर मिलाकर उसको मैश कर लें। फिर इसके लड्डू बनाकर रोज़ाना दूध के साथ सेवन करें। आपको जल्द ही इस वज़न बढ़ाने वाले सुपरफूड का फायदा मिलेगा।

इसे भी पढ़िए :  कमजोर लोगों पर हमला करता है डिमेंशिया

बाजरे की रोटी जहां खाने में स्वादिष्ट होती है वहीं ये आसानी से पच जाने वाली होती है। वजन बढा़ने की इच्छा है तो कोशिश कीजिए कि डिनर या लंच में बाजरे की रोटी को ज़रूर शामिल कीजिए। बाजरे की रोटी हड्डियों की मज़बूती के लिए भी ज़रूरी होती है।

बाजरे की खास बात ये भी है कि ये आसानी से पच जाता है और आपके मष्तिष्क को भी स्वस्थ्य रखता है। Heart attack and headache से भी ये आपको दूर रखता है। इसके अंदर मौजूद Vitamin B3 शरीर में मौजूद कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को भी कम करने में मदद करता है। बाजरे के डाइट में इस्तेमाल से मधुमेह का खतरा भी कम होता है। बाजरे में मौजूद फाइबर से कैंसर का ख़तरा भी कम होता है।

इसे भी पढ़िए :  कैंसर से लड़ने में मददगार हो सकती है नई स्टेम सेल तकनीक

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

eighteen − 13 =