कल्याण सिंह की पौत्र की शाही शादी सम्पन्न

574
loading...

अलीगढ़ 7 मार्च। कानून व्यवस्था और सुरक्षा की दृष्टि से देखे तो आज शहर देश के सबसे वीआईपी क्षेत्रों में शामिल है क्योकि यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री एवं राजस्थान के राज्यपाल श्री कल्याण सिंह की पौती तथा एटा से सांसद राजबीर सिंह उर्फ राजू भईया की पुत्री और प्रदेश के शिक्षा राज्य मंत्री संदीप सिंह की बहन पूर्णिमा सिंह की होने वाली शादी में देश के राष्ट्रपति से लेकर प्रधानमंत्री तक लगभग 300 वीवीआईपीओ व वीआईपीओं के आने की सम्भावना थी जो कि उक्त लाईन लिखे जाने तक पहुंचने लगे है।
हेलीपैंड पर अति वीवीआईपीओं के आने का सिलसिला जारी हो चुका है। बताते चलें की श्रीमति एवं श्री ठाकुर शिवराज सिंह के सुपुत्र चि0 प्रवीण के साथ पूर्णिमा के राॅयल रेजीडेंसी होटल जीटीरोड में लगभग 1 घंटे बाद फेरे शुरू होने वाले है। मौखिक जानकारी अनुसार 2 बजें से वीवीआईपी का लंच शुरू होगा उसके बाद शाम को 5 बजें से अन्य अतिथियों के डीनर की व्यवस्था भी की गयी है। सूत्रों के अनुसार इस मौके पर लगभग 11 गर्वनर 7 मुख्यमंत्रियों तथा भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के अलावा तमाम प्रदेशों के भाजपा के बड़े पदाधिकारियों तथा मंत्रियों और विधानसभा अध्यक्षों आदि के अलावा विपक्षी दलों के बड़े नेताओं के साथ ही यूपी और केन्द्र के कई प्रमुख अधिकारी पुलिस और प्रशासन के शादी समारोह में आने वाले बताये जा रहे है।
राजस्थान के गर्वनर श्री कल्याण सिंह की बीमारी की खबर में कोई दम नही लगता क्योकि राजबीर सिंह के पारिवारिक मित्र संजय कुमार ने भाग दौड़ के बीच एक व्यक्ति द्वारा पूछने पर की बाबू जी की तबियत कैसी है कहा की बाबू जी बिल्कुल ठीक है और विवाह समारोह की सभी रस्मों में भाग लेने के साथ साथ अतिथियों से मिल रहे है।
आने वालों की भीड़ को देखकर यह लगता है की शायद ही ऐसा कोई वीआईपी हो जो इस विवाह समारोह में ना पहुंच रहा हो।

इसे भी पढ़िए :  दीपिका पादुकोण ने पति रणवीर सिंह को कहा-डैडी, क्या प्रेग्नेंसी की तरफ है इशारा?


सुरक्षा के अभेद इंतजामों को देखते हुए ऐसा लगता है कि महामहिम राष्ट्रपति जी और प्रधानमंत्री जी के आगमन को ध्यान में रखते हुए पूरे प्रदेश आदि से सुरक्षाकर्मी और प्रशासनिक और पुलिस के तेजतर्रार अधिकारियों के बुलाकर यहां लगाया गया है।

इसे भी पढ़िए :  आल इंडिया न्यूज पेपर एसोसिएशन आइना की मांग ,मुख्यमंत्री जी मारे गये पत्रकार और उसके भाई को 25-25 लाख तथा परिवार के एक सदस्य को दी जाये सरकारी नौकरी


कुल मिलाकर यह कहा जा सकता है की जैसा आज वीआईपीओं का आगमन लगा हुआ है वैसा शायद पहले विश्व प्रसिद्ध ताला नगरी में कभी देखने को नही मिला होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

3 × 2 =