यूपी: पहले 10 लाख से ज्‍यादा बच्‍चों ने छोड़ी बोर्ड परीक्षा, अब कॉपी के साथ मिल रहे हैं 50-100 के नोट

loading...

लखनउ 20 मार्च। यूपी बोर्ड की हाईस्कूल और इंटरमीडिएट परीक्षा के दौरान हुई सख्ती का असर मूल्यांकन में देखने को मिल रहा है। पेपर हल नहीं कर पाले वाले परीक्षार्थियों ने उत्तरपुस्तिकाओं के पन्नों में 500, 200, 100 और किसी ने 50 रुपये के नोट नत्थी कर दिए हैं। सीएवी इंटर काॅलेज में पिछले दो दिनों के मूल्यांकन के दौरान इंटर रसायन विज्ञान की काॅपी से 500-500 के नोट निकले। दूसरे केंद्रों में भी काॅपियों से नोट निकले लेकिन परीक्षकों ने किसी को बताने की बजाय चुपके से नोट मोड़कर जेब में रखना उचित समझा।पेपर हल नहीं कर पाने वाले परीक्षार्थी इस उम्मीद से नोट रख देते हैं कि शायद परीक्षक तरस खाकर कुछ नंबर दे दे। हालांकि बोर्ड ने सख्त निर्देश दिए हैं कि काॅपियों का मूल्यांकन पूरी सतर्कता के साथ किया जाए।

इसे भी पढ़िए :  शुभकामना विवाह मंडप की दुकानों और किचन पर लगायी सील,बाबु लाल गुप्ता के निवास पर कार्यवाही नही कर पायी आवास विकास की टीमएव्यापारी और भाजपा नेताओं के विरोध के कारण वापस लौंटी

एक कमरे में भर दिये 70-80 परीक्षकः यूपी बोर्ड ने काॅपियों के मूल्यांकन में शिक्षकों की ड्यूटी लगाने में गड़बड़ी की है। अग्रसेन इंटर काॅलेज में 21 कमरों में काॅपियां जांची जा रही है लेकिन वहां 1727 परीक्षकों की ड्यूटी लगा दी गई है। एक कमरे में 80 परीक्षकों की ड्यूटी लगने से उनमें आक्रोश है। शिक्षक नेता लालमणि द्विवेदी का कहना है कि एक कमरे में 80 बच्चों को नहीं बैठाया जा सकता। ऐसे में शिक्षकों से काॅपी जंचवाना अमानवीय है।

इसे भी पढ़िए :  UP Board Result 2018: 10वीं, 12वीं के परिणाम 29 अप्रैल को किए जाएंगे घोषित

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

two × 3 =