PNB महाघोटाले के बाद 515 करोड़ का एक और फ्रॉड, CBI ने कसा शिकंजा

loading...

नई दिल्ली : हीरा कारोबारी नीरव मोदी और मेहुल चोकसी के PNB को 12,600 करोड़ रुपये का चूना लगाने के बाद बैंक धोखाधड़ी के कई मामले सामने आए हैं. अब ताजा मामले में केंद्रीय जांच ब्यूरो (CBI) ने बुधवार को 515.15 करोड़ रुपये के बैंक fraud का एक और मामला दर्ज किया है. जांच एजेंसी की तरफ से यह केस RP Infosystem और इसके डायरेक्टर के खिलाफ फाइल किया गया है. गौरतलब है कि नीरव मोदी और गीतांजलि जेम्स के मालिक मेहुल चोकसी से संबंधित PNB घोटाला मामले में 1,300 Crore रुपये के घोटाले का खुलासा होने के बाद बैंक को लगी कुल चपत की रकम बढ़कर 12,600 करोड़ रुपए हो गई है.

इसे भी पढ़िए :  'बहू हमारी रजनीकांत' की एक्ट्रेस बनेगी 'खतरों के खिलाड़ी' का हिस्सा

ग्रुप चीफ Risk Officer की नियुक्ति
इससे पहले अरबों रुपये का घोटाला होने के बाद मंगलवार को PNB ने एक ग्रुप चीफ रिस्क ऑफिसर की नियुक्ति की है. इसकी जानकारी बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज को भी दी गई है. पीएनबी ने इस संबंध में एक अधिसूचना जारी करते हुए लिखा, ‘Exchange को सूचित किया जाता है कि श्री एके प्रधान, महाप्रबंधक को ‘समूह का मुख्य जोखिम अधिकारी’ नियुक्त किया गया है.’ बैंक ने बताया कि यह नियुक्ति सेबी लिस्टिंग रेगुलेशन 2015 के अधीन की गई है.

97.85 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी
आपको बता दें कि नीरव मोदी और मेहुल चोकसी के अलावा CBI ने हाल ही में सिम्भौली शुगर्स लिमिटेड, उसके अध्यक्ष गुरमीत सिंह मान, उप महाप्रबंधक गुरपाल सिंह और अन्य के खिलाफ 97.85 करोड़ रुपये की कथित बैंक ऋण धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया था. सिम्भौली शुगर्स लिमटेड देश की सबसे बड़ी चीनी मिलों में से एक है. Agency ने कंपनी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी जी एस सी राव, सीएफओ संजय तापड़िया, कार्यकारी निदेशक गुरसिमरन कौर मान और पांच गैर-कार्यकारी निदेशकों के खिलाफ मामला दर्ज किया है. गुरपाल सिंह पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह के दामाद हैं.

इसे भी पढ़िए :  नागरिकों केे घूमने के समय सुबह शाम वाहनों के लिये माल रोड खोलना जनहित में नहीं खुली हवा में अब कहां सांस लेंगे शहरवासी

हिरासत में हैं Rotomac के मालिक
CBI के प्रवक्ता अभिषेक दयाल ने बताया था कि एजेंसी ने निदेशक के आवास, कारखाने एवं दिल्ली, हापुड़ और नोएडा स्थित कंपनी के कॉरपोरेट और पंजीकृत कार्यालयों सहित आठ ठिकानों पर तलाशी ली. इसके अलावा Investigation agency 3695 करोड़ रुपये के कर्ज के हेराफेरी के मामले में Rotomac कंपनी के मालिक विक्रम कोठारी और उनके बेटे राहुल कोठारी को पहले ही गिरफ्तार कर चुकी है.

इसे भी पढ़िए :  ओडिशा व मिजोरम के राज्यपाल नियुक्त

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

five + two =