बड़ी गलती : उत्तर कोरिया ने गलती से अपने ही शहर पर गिराया मिसाइल: रिपोर्ट

loading...

लगातार अपनी मिसाइल का परीक्षण कर पूरी दुनिया में हड़कंप मचानवाले उत्तरी कोरिया से एक बुरी ख़बर सामने आ रही है। ख़बरों के मुताबिक, उत्तर कोरिया की एक मिसाइल लांच करने के फौरन बाद ही इसके अपने ही एक शहर के ऊपर दुर्घटनाग्रस्त हो गयी। अमेरिकी अधिकारियों ने बताया कि पिछले साल 28 अप्रैल को ह्वासोंग-12 नाम की यह अंतर महाद्वीपीय बैलिस्टिक मिसाइल (आईआरबीएण) के बारे में शुरूआत में यह समझा गया कि वह फटकर बेकार हो गई थी। लेकिन, जो नए तथ्य सामने आ रहे हैं उसके मुताबिक वह मिसाइल उत्तर कोरिया की राजधानी प्योंगयोंग से करीब 90 मील दूल टोकचोन शहर के ऊपर जाकर गिरी है। टोकचोन शहर की कुल आबादी करीब दो लाख से ज्यादा है।

इसे भी पढ़िए :  #MeToo: साजिद खान पर लगे यौन शोषण के आरोप पर बहन फराह खान ने दिया ये रिएक्शन

डिप्लोमेट मैग्जीन ने अमेरिकी खुफिया सूत्रों और सैटेलाइट तस्वीर के हवाले से बताया है कि ऐसा माना जा रहा है कि इस शहर के ऊपर मिसाइल के आकर फटने से इंडस्ट्रियल और एग्रीकल्चरल बिल्डिंग्स को काफी नुकसान हुआ है। रिपोर्ट में कहा गया है कि पुकचांग हवाईक्षेत्र से इस मिसाइल को छोड़े जाने के बाद ये उत्तर-पूरब की दिशा में 24 मील तक गयी। उसके बाद यह 43 मील से ज्यादा नहीं नहीं जा पायी। अमेरिकी सरकार के सूत्र ने बताया कि इस मिसाइल के छोड़े जाने के बाद पहले ही चरण में इसका इंजन फेल हो गया।

इसे भी पढ़िए :  एयर इंडिया की एयर होस्टेस फ्लाइट से नीचे गिरी, अस्पताल में भर्तीय हालत गंभीर

ऐसा माना जा रहा है कि इस मिसाइल के गिरने के बाद उसमें से निकले लिक्विड के चलते बड़ा धमका हुआ है। मिसाइल परीक्षण के बाद गूगल अर्थ की तरफ से ली गई तस्वीर से यह साफ पता चलता है कि जिस जगह पर ये मिसाइल गिरी वह जगह साफ है जहां ऐसा माना जा रहा है कि पहले एक बिल्डिंग थी। इसके साथ ही एक ग्रीन हाउस को भी क्षति पहुंची है।

इसे भी पढ़िए :  Gurudram shootout: फायरिंग में जज की घायल पत्नी की मौत, बेटे की हालत अब भी नाजुक

हालांकि, पब्लिकेशन की तरफ से ये साफ कहा गया है कि नॉर्थ कोरिया के तानाशाह की सीक्रेसी के चलते यह पुष्टि करना संभव नहीं है कि इसके चलते कितनी मौत हुई है। रिपोर्ट में यह कहा गया है कि एक और मिसाइल गलत समय पर फेल हुई है। अगर ये मिसाइल जापान में गलती से गिरी होती तो इसकी प्रतिक्रिया में टोक्यो से हमला तक किया जा सकता था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

thirteen − 11 =