मंत्रालय ने किया निवेशकों को आगाह बिटकाइन में डूब सकती है गाढ़ी कमाई

loading...

नई दिल्ली। वित्त मंत्रालय ने निवेशकों के लिए चेतावनी जारी की है कि क्रि प्टो करेंसी की कोई कानूनी मान्यता नहीं है। इस तरह की मुद्रा की कोई सुरक्षा नहीं है। बिटकाइन समेत हाल के दिनों में वर्चुअल करेंसी (क्रि प्टो करेंसी) के मूल्य में तेजी से वृद्धि हुई है। यह नियंतण्र स्तर के साथ-साथ भारत में भी हुई है।मंत्रालय का कहना है कि इस तरह की मुद्रा का कोई वास्तविक मूल्य नहीं है और न ही इसके पीछे कोई संपत्ति है। मंत्रालय ने एक बयान में कहा, बिटकाइन और अन्य क्रि प्टोकरेंसी की कीमत पूरी तरह अटकलों पर आधारित परिणाम है और इसलिए इसकी कीमतों में इतना उतार-चढ़ाव है। बयान के मुताबिक इस तरह के निवेश में वैसा ही उच्च स्तर का जोखिम है जैसा कि पोंजी योजनाओं में होता है। इससे निवेशकों को अचानक से भारी नुकसान हो सकता है विशेषकर खुदरा ग्राहकों को जिनकी मेहनत की गाड़ी कमाई को झटका लग सकता है।मंत्रालय ने कहा कि क्रि प्टोकरेंसी धारकों, उपयोक्ताओं और कारोबारियों को पहले ही भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा तीन बार इसके खतरों के प्रति आगाह किया जा चुका है। साथ ही केंद्रीय बैंक ने यह भी सूचित किया है कि इस तरह की मुद्रा के सौदों या संबंधित योजनाओं को चलाने के लिए उसने किसी को लाइसेंस या प्रमाणन नहीं दिया है।

इसे भी पढ़िए :  भारत में शुरू हुए iPhone XR के प्री-ऑर्डर, जानें इससे जुड़ी हर बात

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

five × 3 =