हैदराबाद को ‘भिखारी मुक्त’ शहर बनाने की पहल, भिखारियों की जानकारी देने पर मिलेंगे 500 रुपये

162
loading...

हैदराबाद में अब एक भी भिखारी नहीं दिखाई देगा. दरअसल, अब हैदराबाद पूरी तरह से भिखारी मुक्त शहर बनने जा रहा है. इतना ही नहीं, तेलंगाना Jail Department ने भिखारियों का पता बताने वालों को 500 रुपये का ईनाम देने की पेशकश की है. ये फ़ैसला इस पहल को कामयाब बनाने के लिए लिया गया है.

तेलंगाना के DG वीके सिंह ने आदेश जारी करते हुए कहा कि अगर कोई व्यक्ति हमें किसी भिखारी या उसके बारे में जानकारी देता है, तो अगले दिन उसे 500 रुपये का नकद ईनाम दिया जाएगा. इसके अलावा शहर में ‘विद्यादान कार्यक्रम’ भी शुरू किया गया है, जिसके तहत भिखारियों को शिक्षा और रोजगार प्रदान किया जाएगा.

इसे भी पढ़िए :  अवसाद से जूझने में मदद कर सकते हैं इंटरनेट थैरेपी मंच

आगे बात करते हुए उन्होंने बताया कि हमने शहर में 6 Petrol Pump और 6 नए आयुर्वेदिक गांवों में भिखारियों को रोजगार देने की योजना बनाई है. इसके साथ ही कुछ भिखारियों को आनंद आश्रम में training भी दी जाएगी.

वहीं ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम और पुलिस विभाग की सहायता से अबतक 741 पुरुष और 311 महिला भिखारियों को सड़क से उठाया जा चुका है. इनमें से 476 पुरुष और 241 महिला भिखारियों को इस शर्त पर रिहा किया गया है कि अब वो दोबारा भीख नहीं मांगेंगे. इसके साथ ही 265 पुरुष और 70 महिला भिखारियों सहित 2 बच्चों को प्रशिक्षण के लिए आनंद आश्रम में रखा गया है.

इसे भी पढ़िए :  भारतीय अर्थव्यस्था को एक और झटका, अर्थशास्त्री सुरजीत भल्ला ने EAC-PM से दिया इस्तीफा

D.G. VK Singh बताते हैं कि हमारा उद्देश्य इन लोगों को स्वस्थ्य जीवन प्रदान करना है, साथ ही हम जल्द उन्हें ऐसी जगह भी मुहैया कराएंगे जहां वो अपने परिवार के साथ जीवन व्यतीत कर सकें. हमारी कोशिश है कि आगे चलकर राज्य में एक भी भिखारी न नज़र आए.

इसे भी पढ़िए :  हजरत निजामुद्दीन दरगाह में महिलाओं की एंट्री क्यों है बैन? दिल्ली HC का दिल्ली सरकार को Notice

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

3 × three =