वतन पर मिटने वाले 635 शहीदों के नाम भुला दिए

loading...

देहरादून । उत्तराखंड के अब तक के शहीदों की संख्या पर असमंजस की स्थिति बन गई है। सैनिक कल्याण निदेशालय के रिकॉर्ड के अनुसार प्रदेश के 1947 से अबतक 1637 सैन्य अधिकारियों और जवानों ने अपना सर्वेाच्च बलिदान दिया, जबकि रक्षा मंत्रलय उत्तराखंड में 2272 को शहीद बता रहा है।

इसे भी पढ़िए :  विद्युत विभाग की लापरवाही बिना कनेक्शन बिल 72 हजार

गढ़ी कैंट छावनी परिषद चीड़बाग में प्रदेश का पहला वार मेमोरियल बन रहा है। इस मेमोरियल में 1947 के बाद से अब तक शहीद हुए प्रदेश के सैन्य अधिकारियों और जवानों के नाम दर्ज होने हैं। इसके लिए कैंट बोर्ड ने सैनिक कल्याण निदेशालय से शहीदों की लिस्ट मांगी। सूत्रों के मुताबिक निदेशालय ने कैंट बोर्ड को 1637 शहीदों की लिस्ट थमाई।

इसे भी पढ़िए :  विद्युत विभाग की लापरवाही बिना कनेक्शन बिल 72 हजार

srcdj

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

17 − sixteen =