RSS न होता तो वंदे मातरम् के बारे में न जान पाते : सीएम आदित्यनाथ योगी

128
loading...

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने यहां कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) न होता तो हम वंदे मातरम् के बारे में नहीं जान पाते. उन्होंने कहा कि संघ की दी गई दृष्टि आज भी प्रासंगिक है. योगी मंगलवार को राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के पांच पूर्व सरसंघचालकों के व्यक्तित्व एवं कृतित्व पर केंद्रित पुस्तकों का साइंटिफिक कन्वेंशन सेंटर में आयोजित लोकार्पण समारोह को संबोधित कर रहे थे.

इसे भी पढ़िए :  3 लाख से अधिक वोटों से बढ़त के बाद इस अंदाज में मतगणना स्थल पहुंचे साक्षी.. वो श्राप वाला बयान आज तक न भूले लोग

प्रभात प्रकाशन द्वारा आयोजित इस समारोह में उन्होंने कहा कि इन पुस्तकों के माध्यम से कुछ लोगों द्वारा संघ के संबंध में फैलाई जाने वाली भ्रांतियों का निवारण होगा. संघ के पांचों पूजनीय सरसंघचालक वास्तव में इस राष्ट्रशरीर के पंच प्राण हैं.

योगी ने कहा, “दुनिया में संघ जैसा कोई स्वयंसेवी संगठन नहीं है, जो बिना सरकारी मदद के अपने सांस्कृतिक राष्ट्रवाद को बढ़ावा दे रहा है. 1925 से संघ स्वत: स्फूर्त भाव से सांस्कृतिक राष्ट्रवाद को बढ़ाने का कार्य कर रहा है. संघ ने हमें दृष्टि दी है कि हम व्यक्तिवादी, परिवारवादी, जातिवादी न बनें, हम किसी मत-मजहब के हो सकते हैं, पर धर्म एक है, वह है राष्ट्रधर्म.”

इसे भी पढ़िए :  मन की भावनाओं को छू गया मोदी का सम्बोधन, प्रधानमंत्री सफल सिद्ध होगे अगले कार्यकाल में भी, आर्थिक स्थिति, रोजगार उपलब्ध कराने तथा चौथे स्तंभ के उत्थान के बारें में भी सोचना होगा?

मुख्यमंत्री ने कहा, “पुस्तकों के माध्यम से ऐसे महान व्यक्तियों के जीवन के बारे में, जो समाज के लिए समर्पित थे, को जानने और पहचानने का मौका मिलेगा. पांचों दिवंगत विभूतियों ने समाज को बहुत कुछ दिया. जिसे अपने इतिहास का बोध नहीं होता वह अपने भूगोल को भी सुरक्षित नहीं कर सकता.”

इसे भी पढ़िए :  स्मृति की आंधी में उड़ गए राहुल गांधी, ढह गया कांग्रेस का पुराना किला

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

16 + 10 =