हिमाचल प्रदेश में BLUE WHALE गेम से पहली मौत..

loading...

शिमला : देश और दुनिया भर में मौत का जरिया बन रही ब्लू व्हेल गेम से हिमाचल में पहली मौत रिपोर्ट हुई है. एक 11 साल के बच्चे ने इस गेम से प्रेरित होकर फंदा लगाकर जान दे दी है. मामला शिमला के ठियोग का है.यहां देहा बल्सन के बागड़ी गांव में पांचवीं के छात्र ने अपने घर में फंदा लगा कर आत्महत्या कर दी. जान देने से पहले 11 साल के बच्चे ने हाथ की नस भी काट ली थी और एक पेज पर लिखा था कि ‘ये पहेली सुलझाओ.’ हिमाचल में ब्लू व्हेल के कारण मौत का पहला मामला है।

शिमला जिला के देहा बलसन क्षेत्र के बागड़ी गांव का अमित शर्मा गुरुकुल पब्लिक स्कूल देहा में पांचवीं कक्षा में पढ़ता था। मंगलवार को शाम साढ़े चार बजे के करीब घर पहुंचा था। उनके घर में मिस्त्री काम कर रहा है। अमित मिस्त्री के मोबाइल को लेकर स्टोर में चला गया। साढ़े पांच बजे के करीब परिजन उसे आवाजें लगाने लगे। कोई जवाब न मिलने पर परिजन स्टोर में पहुंचे।

इसे भी पढ़िए :  14 महीने बाद वनडे में इस खिलाड़ी की हुई वापसी, मैदान पर फिर दिखा जादू

वहां अमित फंदे से लटका था। पुलिस मिस्त्री से पूछताछ कर रही थी। अमित ने सुसाइड नोट में लिखा है कि मां मैं मर रहा हूं। मुझसे कोई प्यार नहीं करता। इसलिए मैं जा रहा हूं। मुङो अब आप नहीं देख पाओगे। मैं अपनी नस नहीं काटूंगा। मैं इससे भी बड़ी सजा दे रहा हूं। मैं फांसी का फंदा लगा रहा हूं। सुसाइड नोट में पजल गेम बनाई गई है। ए से लेकर एम तक अंग्रेजी के शब्द लिखे हुए हैं।

इसे भी पढ़िए :  अब अटल जी की गलत जन्मतिथि पढ़ाई जा रही है किताबों में, जिम्मेदार कौन ?

फॉरेंसिक टीम करेगी जांच पुलिस ने सुसाइड नोट कब्जे में लिया है। नोट पर लिखाई अमित की है या किसी और की। यह फॉरेंसिक जांच के बाद ही पता चल पाएगा। सुसाइड नोट कब लिखा गया। इन सवालों के जवाब जांच के बाद ही पता चलेंगे। ब्लू व्हेल थ्योरी पर पुलिस को संदेह ब्लू व्हेल गेम में शरीर को हानि पहुंचानी होती है। नस काटनी होती है या ब्लू व्हेल का निशान बनाना होता है, लेकिन अमित के शरीर पर कोई निशान नहीं मिला। ऐसे में ब्लू व्हेल की थ्योरी पर पुलिस को संदेह है।

इसे भी पढ़िए :  मुजफ्फरनगर : बुर्का पहनकर शोरूम पहुंचीं 3 महिलाएं, 50 लाख रुपये के गहने लेकर हुईं फरार

सोलन में भी आ चुका है ऐसा ही एक मामला
बता दें कि सोलन में भी ब्लू व्हेल से जुड़ा ऐसा मामला सामने आ चुका है. लेकिन बच्चे के पैरेंट्स की सतर्कता के चलते मामले का खुलासा हो गया था. बच्चे के बाजुओं पर कट के निशान देखकर परिजनों को गेम खेलने की भनक लग गई थी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

one × four =