‘‘मेनसा आईक्यू टेस्ट’ में भारतवंशी बच्चा अव्वल …..

144
loading...

ब्रिटेन में भारतीय मूल के 13 वर्षीय एक बच्चे ने ‘‘मेनसा आईक्यू टेस्ट’ में सर्वाधिक 162 अंक हासिल किए हैं। इसी के साथ वह यह उपलब्धि पाने वाले विश्व के शीर्ष एक प्रतिशत लोगों में शामिल हो गया है।दक्षिण पूर्व इंग्लैंड के वकिंगघम में रहने वाला ध्रुव गर्ग गर्मियों की छुट्टियों के दौरान अपना समय बिताने के लिए विकल्प तलाश रहा था और उसने फैसला किया कि वह मेनसा के इस बौद्धिक समाज में शामिल होने की कोशिश करेगा।

इसे भी पढ़िए :  समय पूर्व जन्में बच्चों की सेहत में कैफीन है मददगार

खबर के मुताबिक, स्कूल में पढ़ने वाले इस बच्चे ने शुरुआती आईक्यू टेस्ट में 162 अंक हासिल किए जो इस टेस्ट में हासिल किए जा सकने वाले अधिकतम अंक है। इस उपलब्धि के बाद वह ऐसा करने वाले विश्व के शीर्ष एक फीसद लोगों में शामिल हो गया। इसके अलावा उसने दूसरे टेस्ट ‘‘कल्चर फेयर स्केल’ में भी सबसे ज्यादा 152 अंक प्राप्त किए।

इसे भी पढ़िए :  समय पूर्व जन्में बच्चों की सेहत में कैफीन है मददगार

इन अंकों के साथ वह ‘‘मेनसा’ परीक्षा में भाग लेने वाले विश्वभर के उन गिने-चुने लोगों में शामिल हो गया जिन्होंने दोनों परीक्षाओं में सर्वाधिक अंक प्राप्त किए हैं। गर्ग बर्कशायर के रीडिंग स्कूल में पढ़ता है। वह एक ऐसा एप भी विकसित कर रहा है जिससे कि लोगों की सामाजिक एकांतता को खत्म किया जा सके। ‘‘मेनसा’ को विश्व की सबसे बड़ी और प्राचीन आईक्यू सोसायटी माना जाता है।

इसे भी पढ़िए :  समय पूर्व जन्में बच्चों की सेहत में कैफीन है मददगार

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

15 − thirteen =