तमिलनाडु विधानसभा में जोरदार हंगामा, कुर्सियां तोड़ी

176
loading...

चेन्नई। इदापड्डी पलानीस्वामी की सरकार द्वारा आज लाए गए अहम विश्वास प्रस्ताव पर मतदान से पहले तमिलनाडु विधानसभा में विपक्षी सदस्यों ने भारी हंगामा कर कार्यवाही को बाधित कर दिया।

विधायकों ने सदन में कुर्सियों को तोड़ा और जबरदस्त नारेबाजी की जिसको देखते हुए सदन की कार्यवाही दो बार के स्थगन के बाद दोपहर तीन बजे तक के लिए स्थगित कर दी गयी।

सदन में हंगामे के बढ़ जाने पर विधानसभा अध्यक्ष पी धनपाल मार्शलों के साथ विधानसभा से निकल गए। इस हंगामे के बीच कार्यवाही बाधित हो गई।कुछ विपक्षी सदस्यों ने गुप्त मतदान की मांग की थी।

इसे भी पढ़िए :  घूस ले रहे जीएसटी के 3 अफसरों को सीबीअाई ने किया गिरफ्तार

दो दिन पहले मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ लेने वाले पलानीस्वामी को राज्यपाल सी विद्यासागर राव ने बहुमत साबित करने के लिए 15 दिन का समय दिया था लेकिन उन्होंने आज ही अपना बहुमत साबित करने का विकल्प चुना।

कोयंबटूर उत्तर के विधायक अरुण कुमार की ओर से मतदान में अनुपस्थित रहने की घोषणा किए जाने पर विद्रोही ओ पनीरसेल्वम खेमे को बल मिला था। इससे पहले मेलापोर के विधायक और पूर्व डीजीपी आर. नटराज ने सरकार के खिलाफ मतदान का फैसला किया था।

इसे भी पढ़िए :  तेलंगाना में सबसे धनी उम्मीदवार की संपत्ति 314 करोड़ रपए

इन दोनों के फैसले के बाद पलानीस्वामी खेमे के पास अब एक रिक्ति वाले 234 सदस्यीय सदन में 122 विधायक रह गए हैं। द्रमुक प्रमुख एम करूणानिधि खराब स्वास्थ्य के चलते सदन में मौजूद नहीं थे।

वहीं, पनीरसेल्वम के खेमे ने सेम्मलई को विधानसभा में पार्टी का सचेतक नियुक्त किया है और इस संदर्भ में विधानसभा अध्यक्ष को पत्र भेज दिया है।

इसे भी पढ़िए :  ताज महल में महिलाओं ने लगाये श्रीराम के नारे

src:ps

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

1 + 3 =