खुशखबरी:डेबिट कार्ड रखने का झंझट खत्म, इस ATM से बिना कार्ड और पिन के ही निकलेगा कैश

loading...

बैंक अपने ग्राहकों की सुविधा के लिए नई-नई सुविधाएं लेकर आ रहे हैं. अब एक ऐसा एटीएम आ रहा है जिससे आप बिना कार्ड या पिन के ही कैश निकाल सकेंगे. जी हां यह कोई काल्पनिक बात नहीं बल्कि हकीकत है. इस सुविधा के बाद यदि आपका एटीएम कही खो जाता है या फिर आप पिन भूल जाते हैं तो आपको कैश निकालने के लिए चिंता करने की जरूरत नहीं है. इससे आप बिना एटीएम और पिन के अपनी जरूरत को पूरा कर सकेंगे. अभी एटीएम कार्ड के गुम हो जाने या पिन भूल जाने पर ग्राहक को दिक्कत होती है.

इसे भी पढ़िए :  POCSO Act: मासूम का रेप करने पर मौत की सजा वाले अध्यादेश पर राष्ट्रपति की मुहर लगी

ग्राहकों को मिलेगा फायदा
कार्ड खोने पर आपको बैंक से नया कार्ड प्राप्त करने में 10 से 15 दिन का समय लग जाता है. जब तक आपको कार्ड नहीं मिलता आप काफी परेशान रहते हैं. लेकिन अब आप इन सभी चिंताओं को बाय-बाय कह सकते हैं. आपको बता दें कि प्राइवेट सेक्टर के बड़े बैंक यस बैंक (yes bank) ने फिनटेक क्षेत्र की स्टार्टअप नियरबाय टेक्नॉलजीज के साथ करार किया है. इसके तहत नियरबाय टेक बैंक को आधार आधारित ऐसा एटीएम उपलब्ध कराएगी जिसमें कार्ड या पिन की जरूरत नहीं होगी.

इसे भी पढ़िए :  सेक्स से कुछ मिनट पहले अब पुरुष भी ले सकेंगे गर्भ निरोधक गोलियां, कई दिनों तक करेंगी काम

स्मार्टफोन पर हो सकेगा इस्तेमाल

ग्राहक रिटेलरों के पास पैसा जमा करा सकेंगे और निकाल सकेंगे. पेनियरबाय मोबाइल ऐप्लिकेशन का इस्तेमाल स्मार्टफोन पर किया जा सकेगा. इसमें कोई रिटेलर ग्राहकों के लिए आधार एटीएम-आधार बैंक शाखा के रूप में काम कर सकेगा और नगदी जमा कराने या निकासी की सुविधा दे सकेगा. यस बैंक और नियरबाय ने इस सेवा को शुरू करने के लिए नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया के साथ में काम किया है.

इसके नेटवर्क में 40,000 टच पॉइंट होंगे
पेनियरबाय आधार एटीएम यस बैंक और बिजनेस कॉरस्पॉन्डेंट के जरिए उपलब्ध होगा. इसके नेटवर्क में 40,000 टच पॉइंट होंगे. आधार नंबर और अंगुली की छाप का इस्तेमाल कर ग्राहक उन स्थानों से नकदी निकाल सकेगा या किसी तरह का अन्य लेनदेन कर सकेगा. नियरबाय ने आधार सेवाओं के बारे में जागरूकता और इसको लोकप्रिय बनाने के लिए रिटेलर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया से करार किया है.

इसे भी पढ़िए :  भ्रष्टाचार के खिलाफ बने कानूनों के तहत मिली सजाओं को अलग-अलग की याचिका

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

six + thirteen =